"उत्सर्जन तन्त्र": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
छो
Reverted 1 edit by 2409:4052:2E93:3F6E:0:0:EA4A:5508 (talk) to last revision by अनुनाद सिंह (TwinkleGlobal)
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (Reverted 1 edit by 2409:4052:2E93:3F6E:0:0:EA4A:5508 (talk) to last revision by अनुनाद सिंह (TwinkleGlobal))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
 
शरीर में [[कार्बोहाइड्रेट]] तथा [[वसा]] के [[उपापचय]] से [[कार्बन डाइऑक्साइड]] तथा जलवाष्प का निर्माण होता है। [[प्रोटीन]] के उपापचय से नाइट्रोजन जैसे उत्सर्जी पदार्थों का निर्माण होता है। जैसे-अमोनिया यूरिया तथा यूरिक अम्ल।।
कार्बन डाइऑक्साइड जैसी उत्सर्जी पदार्थों को फेफड़ों के द्वारा शरीर से बाहर निकाला जाता है। सोडियम क्लोराइड जैसे उत्सर्जी पदार्थों को त्वचा द्वारा शरीर से बाहर निकाले जाते हैं। यूरिया जैसे उत्सर्जी पदार्थ वृक्क के द्वारा शरीर से बाहर निकाले जाते हैं। चूंकि इसमें कई ऐसे कार्य शामिल हैं जो एक दूसरे से केवल ऊपरी तौर पर संबंधित हैं, इसका उपयोग आमतौर पर शरीर रचना या प्रकार्य के और अधिक औपचारिक वर्गीकरण में नहीं किया जाता है। aditya vyas
 
== मलोत्सर्ग प्रकार्य ==
253

सम्पादन

नेविगेशन मेन्यू