"शेखावाटी" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
134 बैट्स् नीकाले गए ,  5 माह पहले
णझ़दम यक्षराज
छो (अनचाही साइट www.jatland.com की कड़ियाँ हटा रहा)
(णझ़दम यक्षराज)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
यधपि इस संघ का न कोई लिखित कानून है और न इसका प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष कोई प्रधानाध्यक्ष है। किन्तु समान हित की भावना से प्रेरित यह संघ अपना अस्तित्व बनाये रखने में सदैव समर्थ रहा है। फिर भी यह नहीं मान लेना चाहिय कि इस संघ में कोई नीति-कर्म नहीं है। जब कभी एक छोटे से छोटे सामंत के स्वत्वधिकारों के हनन का प्रश्न उपस्थित हुआ तो छोटे-बड़े सभी शेखावत सामंत सरदारों ने उदयपुर नामक अपने प्रसिद्ध स्थान पर इक्कठे होकर स्वत्व-रक्षा का समाधान निकाला है।
<ref>कर्नल जेम्स टोड</ref>
=== ३ ===
 
जिस काल का हम वर्णन कर रहे हैं, शेखावाटी प्रदेश ठिकानों (छोटे उप राज्यों) का एक समूह था, जिसके उत्तर पश्चिम में बीकानेर, उत्तर पूर्व में लोहारू और झज्जर, दक्षिण पूर्व में जयपुर और पाटन तथा दक्षिण पश्चिम में [[जोधपुर]] राज्य था। थार्टन के अनुसार शेखावाटी का क्षेत्रफल ३८९० वर्ग मील है जो भारतीय जनगणना रिपोर्ट १९४१ के आंकडों के लगभग बराबर है भारतीय जनगणना रिपोर्ट १९४१ के अनुसार शेखावाटी का क्षेत्रफल ३५८० वर्ग मील है। कर्नल टोड ने शेखावाटी का क्षेत्रफल ५४०० वर्ग मील होने का अनुमान लगाया है जो अतिशयोक्तिपूर्ण एवं अविश्वसनीय है।
अपनी अन-उपजाऊ प्राकृतिक स्थिति के कारण शेखावाटी सदैव से योद्धाओं, साहसिकों और दुर्दांत डाकुओं की भूमि रही है। शेखावाटी जयपुर राज्य में सदैव तूफान का केंद्र बनी रही और समय-समय पर [[जयपुर]] के आंतरिक शासन में ब्रिटिश हस्तेक्षेप के लिए अवसर जुटाती रही।
<ref>एच.सी.बत्रा, M.A. इतिहास</ref>
बेनामी उपयोगकर्ता

दिक्चालन सूची