"गलगुटिकाशोथ": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
14 बाइट्स जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
छो
2409:4063:218B:6A66:0:0:DC7:E8B0 (Talk) के संपादनों को हटाकर Dr3vedi के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (2409:4063:218B:6A66:0:0:DC7:E8B0 (Talk) के संपादनों को हटाकर Dr3vedi के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
गलगुटिकाओं के पृष्ठ पर पीतवर्ण के पीब के धब्बे दिखलाई देते हैं। यदि रोग का उचित उपचार नहीं किया जाता तो गलगुटिकोओं की यह अवस्था स्थायी हो जाती है और थोड़े थोड़े समय के अंतर पर ये कष्ट देने लगती हैं।
 
== उपचार ==
== उपचार ==उग्र अवस्था में सल्फा औषधों का उपयोग करने से लाभ होता है। पोटासियम परमैंगनेट के तनु विलयन, या लवणजल का गरारा (gargle) करना चाहिए। दीर्घस्थायी अवस्था में शल्यकर्म द्वारा गलगुटिकाओं को निकलवा देना चाहिए।
 
== बाहरी कड़ियाँ ==

नेविगेशन मेन्यू