"रामकृष्ण परमहंस" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
छो
171.50.154.2 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव को Billinghurst के बदलाव से पूर्ववत किया: परीक्षण संपादन, कृपया प्रयोगस्थल देखें।
छो (171.50.154.2 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव को Billinghurst के बदलाव से पूर्ववत किया: परीक्षण संपादन, कृपया प्रयोगस्थल देखें।)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना SWViewer [1.3]
[[चित्र:Kolkatatemple.jpg|thumb|right| [[दक्षिणेश्वर काली मंदिर]] ]]
 
=== सतत प्रयासों के बाद भी रामकृष्ण का मन अध्ययन-अध्यापन में नहीं लग पाया। १८५५ में रामकृष्ण परमहंस के बड़े भाई रामकुमार चट्टोपाध्याय को [[दक्षिणेश्वर काली मंदिर ]] ( जो [[रानी रासमणि]] द्वारा बनवाया गया था ) के मुख्य पुजारी के रूप में नियुक्त किया गया था। रामकृष्ण और उनके भांजे ह्रदय रामकुमार की सहायता करते थे। रामकृष्ण को देवी प्रतिमा को सजाने का दायित्व दिया गया था। १८५६ में रामकुमार के मृत्यु के पश्चात रामकृष्ण को काली मंदिर में पुरोहित के तौर पर नियुक्त किया गया।<br ===/>
 
रामकुमार की मृत्यु के बाद श्री रामकृष्ण ज़्यादा ध्यान मग्न रहने लगे। वे [[काली ]] माता के मूर्ति को अपनी माता और ब्रम्हांड की माता के रूप में देखने लगे। कहा जाता हैं की श्री रामकृष्ण को काली माता के दर्शन ब्रम्हांड की माता के रूप में हुआ था। रामकृष्ण इसकी वर्णना करते हुए कहते हैं " घर ,द्वार ,मंदिर और सब कुछ अदृश्य हो गया , जैसे कहीं कुछ भी नहीं था! और मैंने एक अनंत तीर विहीन आलोक का सागर देखा, यह चेतना का सागर था। जिस दिशा में भी मैंने दूर दूर तक जहाँ भी देखा बस उज्जवल लहरें दिखाई दे रही थी, जो एक के बाद एक ,मेरी तरफ आ रही थी।
 
715

सम्पादन

दिक्चालन सूची