"कृषि" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
345 बैट्स् जोड़े गए ,  7 माह पहले
छो
सम्पादन सारांश रहित
छो (2409:4053:78E:EDE3:242F:7B92:51D2:A6A2 (talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot (4382189) के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया: स्पैम लिंक।)
टैग: प्रत्यापन्न SWViewer [1.3]
छो
[[चित्र:Tomb_of_Nakht_(2).jpg|दाएँ|अंगूठाकार]]
[[चित्र:Coffee Plantation.jpg|right|thumb|300px]]
'''कृषि''' खेती और वानिकी के माध्यम से खाद्य और अन्य सामान के उत्पादन से संबंधित है। [https://agriculturestudyy.blogspot.com/2019/07/Kheti-bari.html?m=1 कृषि] एक मुख्य विकास था, जो [[सभ्यता|सभ्यताओं]] के उदय का कारण बना, इसमें [[पशुपालन|पालतू]] [[जानवर|जानवरों]] का पालन किया गया और पौधों ([[फसलें|फसलों]]) को उगाया गया, जिससे [[अतिरिक्त]] खाद्य का उत्पादन हुआ। इसने अधिक [[जनसंख्या घनत्व|घनी आबादी]] और स्तरीकृत समाज के विकास को सक्षम बनाया। [https://agriculturestudyy.blogspot.com/2019/07/Kheti-bari.html?m=1 कृषि] का अध्ययन [[कृषि विज्ञान]] के रूप में जाना जाता है तथा इसी से संबंधित विषय [[बागवानी]] का अध्ययन बागवानी (हॉर्टिकल्चर) में किया जाता है।
 
तकनीकों और विशेषताओं की बहुत सी किस्में [https://agriculturestudyy.blogspot.com/2019/07/Kheti-bari.html?m=1 कृषि] के अन्तर्गत आती है, इसमें वे तरीके शामिल हैं जिनसे पौधे उगाने के लिए उपयुक्त भूमि का विस्तार किया जाता है, इसके लिए पानी के चैनल खोदे जाते हैं और सिंचाई के अन्य रूपों का उपयोग किया जाता है। [[खेती|कृषि योग्य भूमि]] पर फसलों को उगाना और चारागाहों और [[ग्रामीण काव्य|रेंजलैंड]] पर पशुधन को गड़रियों के द्वारा [[चरना|चराया जाना]], मुख्यतः कृषि से सम्बंधित रहा है। कृषि के भिन्न रूपों की पहचान करना व उनकी मात्रात्मक वृद्धि, पिछली शताब्दी में विचार के मुख्य मुद्दे बन गए।
विकसित दुनिया में यह क्षेत्र [[जैविक खेती]] (उदाहरण [[पर्माकल्चर]] या [[कार्बनिक खेती|कार्बनिक कृषि]]) से लेकर [[गहन कृषि]] (उदाहरण [[औद्योगिक कृषि]]) तक फैली है।
 
आधुनिक [[अग्रोनोमी|एग्रोनोमी]], [[पादप प्रजनन|पौधों में संकरण]], [[कीटनाशक|कीटनाशकों]] और [[उर्वरक|उर्वरकों]] और तकनीकी सुधारों ने फसलों से होने वाले उत्पादन को तेजी से बढ़ाया है और साथ ही यह व्यापक रूप से पारिस्थितिक क्षति का कारण भी बना है और इसने मनुष्य के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। [[चयनात्मक प्रजनन]] और [[पशुपालन]] की आधुनिक प्रथाओं जैसे [[गहन सुअर खेती|गहन सूअर खेती]] (और इसी प्रकार के अभ्यासों को [[मुर्गा|मुर्गी]] पर भी लागू किया जाता है) ने [[मांस]] के उत्पादन में वृद्धि की है, लेकिन इससे पशु क्रूरता, [[प्रतिजैविक]] (एंटीबायोटिक) दवाओं के स्वास्थ्य प्रभाव, [[वृद्धि हार्मोन|वृद्धि हॉर्मोन]] और मांस के औद्योगिक उत्पादन में सामान्य रूप से काम में लिए जाने वाले रसायनों के बारे में मुद्दे सामने आये हैं।
 
प्रमुख [https://agriculturestudyy.blogspot.com/2019/07/Kheti-bari.html?m=1 कृषि] उत्पादों को मोटे तौर पर [[भोजन]], [[रेशा]], [[ईंधन]], [[कच्चा माल]], [[फ़ार्मास्युटिकल्स|फार्मास्यूटिकल्स]] और [[उद्दीपक|उद्दीपकों]] में समूहित किया जा सकता है। साथ ही सजावटी या विदेशी उत्पादों की भी एक श्रेणी है। वर्ष 2000 से पौधों का उपयोग [[जैव ईंधन|जैविक ईंधन]], [[जैव फ़ार्मास्युटिकल्स|जैवफार्मास्यूटिकल्स]], [[जैव प्लास्टिक|जैवप्लास्टिक]],<ref>मार्केट वॉच (2007), [http://www।marketwatch।com/news/story/bioengineers-aim-cash-plants-make/story।aspx?guid=%7B7F35EAE4-CA2D-4E0D-9262-D392566E906B%7D प्लास्टिक एक से अधिक तरीकों में हरे हैं]।</ref> और फार्मास्यूटिकल्स<ref>[1] ^ BIO (n।d।) [http://www।bio।org/healthcare/pmp/factsheet5।asp औषधियों के उत्पादन के लिए बनाम खाद्य पदार्थ तथा चारे के लिए पौधों को उगाना।]</ref> के उत्पादन में किया जा रहा है। विशेष खाद्यों में शामिल हैं [[अनाज]], [[सब्जी|सब्जियां]], [[फल]] और [[मांस]]। [[रेशा|रेशे]] में [[कपास]], [[ऊन]], [[सन]], [[रेशम]] और [[सन]] (फ्लैक्स) शामिल हैं। [[कच्चा माल|कच्चे माल]] में लकड़ी और बाँस शामिल हैं। उद्दीपकों में [[तम्बाकू]], [[शराब]], [[अफ़ीम]], [[कोकीन]] और [[डिजिटेलिस]] शामिल हैं। पौधों से अन्य उपयोगी पदार्थ भी उत्पन्न होते हैं, जैसे [[रेजिन]]। जैव ईंधनों में शामिल हैं [[मिथेन]], [[जैवभार]] (बायोमास), [[इथेनॉल]] और [[बायोडीजल]]। [[फूल|कटे हुए फूल]], [[उद्यान विज्ञान|नर्सरी के पौधे]], उष्णकटिबंधीय मछलियाँ और व्यापार के लिए पालतू पक्षी, कुछ सजावटी उत्पाद हैं।
 
2007 में, दुनिया के लगभग एक तिहाई श्रमिक [https://agriculturestudyy.blogspot.com/2019/07/Kheti-bari.html?m=1 कृषि] क्षेत्र में कार्यरत थे। हालांकि, [[औद्योगीकरण|औद्योगिकीकरण]] की शुरुआत के बाद से कृषि से सम्बंधित महत्त्व कम हो गया है और 2003 में-इतिहास में पहली बार-[[सेवा (अर्थशास्त्र)|[[सेवा]] क्षेत्र ने एक [[आर्थिक क्षेत्र]] के रूप में कृषि को पछाड़ दिया क्योंकि इसने दुनिया भर में अधिकतम लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया।<ref>[2] ^ [http://www।ilo।org/public/english/employment/strat/kilm/index।htm श्रम बाजार के ][[अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन]] महत्वपूर्ण संकेतक 2008, [http://www।ilo।org/public/english/employment/strat/download/get08.pdf पी। 11-12]
</ref> इस तथ्य के बावजूद कि कृषि दुनिया के आबादी के एक तिहाई से अधिक लोगों की रोजगार उपलब्ध कराती है, कृषि उत्पादन, [[सकल विश्व उत्पाद]] ([[सकल घरेलू उत्पाद]] का एक समुच्चय) का पांच प्रतिशत से भी कम हिस्सा बनता है।<ref>{{cite web |url=https://www।cia।gov/library/publications/the-world-factbook/geos/xx।html#Econ |title=https://www।cia।gov/library/publications/the-world-factbook/geos/xx।html#Econ |accessdate= |format= |work= }} {{Dead link|date=जून 2009}}</ref>[5]
 
20

सम्पादन

दिक्चालन सूची