"अद्वैत वेदान्त" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
145 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (106.77.53.228 (Talk) के संपादनों को हटाकर निरंजन लाटिया के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
शंकराचार्य का ‘एकोब्रह्म, द्वितीयो नास्ति’ मत था। सृष्टि से पहले परमब्रह्म विद्यमान थे। ब्रह्म सत और सृष्टि जगत असत् है। शंकराचार्य के मत से ब्रह्म निर्गुण, निष्क्रिय, सत-असत, कार्य-कारण से अलग इंद्रियातीत है। ब्रह्म आंखों से नहीं देखा जा सकता, मन से नहीं जाना जा सकता, वह ज्ञाता नहीं है और न ज्ञेय ही है, ज्ञान और क्रिया के भी अतीत है। माया के कारण जीव ‘अहं ब्रह्म’ का ज्ञान नहीं कर पाता। आत्मा विशुद्ध ज्ञान स्वरूप निष्क्रिय और अनंत है, जीव को यह ज्ञान नहीं रहता।
<ref> ब्रह्म सत्य, जगत मिथ्या nikhil duniya url।http://nikhilduniya.com/brahm-satya-jagat-mithya/ </ref>
 
ब्रह्मलीन == ब्रह्म को समझ जाना ही ब्रह्मलीन हो जाना है ।

दिक्चालन सूची