"कल्प (वेदांग)" के अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  3 वर्ष पहले
छो
2409:4064:89A:1C2A:857C:88B6:4F53:16F8 (Talk) के संपादनों को हटाकर Sanjeev bot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (2409:4064:89A:1C2A:857C:88B6:4F53:16F8 (Talk) के संपादनों को हटाकर Sanjeev bot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
'''कल्प''' [[वेद]] के छह अंगों (वेदांगों) में एक है जो कर्मकाण्डों का विवरण देता है। अन्य [[वेदांग]] हैं- [[शिक्षा]] (प्रातिशाख्यादि), [[व्याकरण]], [[निरुक्त]], [[छंदशास्त्र]] और [[ज्योतिष]]। अनेक वैदिक ऐतिहासिकों के मत से कल्पग्रंथ या कल्पसूत्र षट् वेदांगों में प्राचीनतम और [[वैदिक साहित्य]] के अधिक निकट हैं। षट् वेदांगों में कल्प का विशिष्ट महत्व है - क्योंकि जन्म, उपनयन, विवाह, अंत्येष्टि और यज्ञ जैसे विषय इसमें विहित हैं।
 
'''कल्प''' [[वेद]] के छह अंगों (वेदांगों) में एक है जो कर्मकाण्डों का विवरण देता है। अन्य [[वेदांग]] हैं- [[शिक्षा]] (प्रातिशाख्यादि), [[व्याकरण]], [[निरुक्त]], [[छंदशास्त्र]] और [[ज्योतिष]]। अनेक वैदिक ऐतिहासिकों के मत से कल्पग्रंथ या कल्पसूत्र षट् वेदांगों में प्राचीनतम और [[वैदिक साहित्य]] के अधिक निकट हैं। षट् वेदांगों में कल्प का विशिष्ट महत्व है - क्योंकि जन्म, उपनयन, विवाह, अंत्येष्टि और यज्ञ जैसे विषय इसमें विहित हैं।
 
== परिचय ==
47,590

सम्पादन

दिक्चालन सूची