"व्यंजन संधि" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
114 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
→‎१: किसी वर्ग के पहले वर्ण मे त् को और त् + भ =द् सत् +भावना =सद्भावना
(परिभाषा)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
(→‎१: किसी वर्ग के पहले वर्ण मे त् को और त् + भ =द् सत् +भावना =सद्भावना)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
== भेद ==
=== १ ===
* किसी वर्ग के पहले वर्ण क्, च्, ट्, त्, प् का मेल किसी वर्ग के तीसरे अथवा चौथे वर्ण या य्, र्, ल्, व्, ह या किसी स्वर से हो जाए तो क् को ग् च् को ज्, ट् को ड्, औरत् को द्,प् को ब् हो जाता है। जैसे -
 
क् + ग = ग्ग जैसे दिक् + गज = दिग्गज। क् + ई = गी जैसे वाक् + ईश = वागीश। च् + अ = ज्, जैसे अच् + अंत = अजंत। ट् + आ = डा जैसे षट् + आनन = षडानन। त् +भ=द् जैसे सत् +भावना = सद्भावना, प् + ज= ब्ज जैसे अप् + ज = अब्ज।<br />
 
क् + ग = ग्ग जैसे दिक् + गज = दिग्गज। क् + ई = गी जैसे वाक् + ईश = वागीश। च् + अ = ज्, जैसे अच् + अंत = अजंत। ट् + आ = डा जैसे षट् + आनन = षडानन। प + ज= ब्ज जैसे अप् + ज = अब्ज।<br />
=== २ ===
* यदि किसी वर्ग के पहले वर्ण (क्, च्, ट्, त्, प्) का मेल न् या म् वर्ण से हो तो उसके स्थान पर उसी वर्ग का पाँचवाँ वर्ण हो जाता है। जैसे -
बेनामी उपयोगकर्ता

दिक्चालन सूची