"वसुदेव" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
42 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
यदुवंशी शूर
छो (2409:4063:2080:D659:DFD8:A9C7:B5C3:62F6 (Talk) के संपादनों को हटाकर Dharmadhyaksha के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(यदुवंशी शूर)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
'''वसुदेव''' यदुवंशी शूर तथा मारिषा के पुत्र, कृष्ण के पिता, कुंती के भाई और मथुरा के राजा उग्रसेन के मंत्री थे। इनका विवाह देवक अथवा आहुक की सात कन्याओं से हुआ था जिनमें [[देवकी]] सर्वप्रमुख थी। वसुदेव के नाम पर ही [[कृष्ण]] को 'वासुदेव' (अर्थात् 'वसुदेव के पुत्र') कहते हैं। वसुदेव के जन्म के समय देवताओं ने आनक और दुंदुभि बजाई थी जिससे इनका एक नाम 'आनकदुंदुभि' भी पड़ा। वसुदेव ने स्यमंतपंचक क्षेत्र में [[अश्वमेध यज्ञ]] किया था। कृष्ण की मृत्यु से उद्विग्न होकर इन्होंने प्रभासक्षेत्र में देहत्याग किया।
 
[[श्रेणी:महाभारत के पात्र]]
बेनामी उपयोगकर्ता

दिक्चालन सूची