"आरण्यक": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
10 बाइट्स हटाए गए ,  3 वर्ष पहले
(हटाया)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
 
=== तैत्तिरीय आरण्यक ===
दस परिच्छेदों (प्रपाठकों) में विभक्त है, जिन्हें "अरण" कहते हैं। इनमें सप्तम, अष्टम तथा नवम प्रपाठक मिलकर "तैत्तिरीय उपनिषद" कहलाते हैं।कहते हें
 
=== बृहदारण्यक ===
गुमनाम सदस्य

नेविगेशन मेन्यू