"प्राण" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
1,117 बैट्स् जोड़े गए ,  3 वर्ष पहले
प्रतिलिपित→‎उपनिषदों में
(प्रतिलिपित→‎वेदों में प्राण)
(प्रतिलिपित→‎उपनिषदों में)
 
अर्थात्- परमात्मा ने सबसे प्रथम प्राण की रचना की। इसके बाद श्रद्धा उत्पन्न की। तब आकाश, वायु, अग्नि, जल, पृथ्वी यह पाँच तत्व बनाये। इसके उपरान्त क्रमशः मन, इन्द्रिय, समूह, अन्न, वीर्य, तप, मंत्र, और कर्मों का निर्माण हुआ। तदन्तर विभिन्न लोक बने।
 
===== भृगुतंत्र में =====
प्राण शक्ति ने भाण्डागार वाले स्वरूप को जान लेने पर ऋषियों ने कहा है कि कुछ भी जानना शेष नहीं रहता है।
 
भृगुतंत्र में कहा गया है-
 
उत्पत्ति मायाति स्थानं विभुत्वं चैव पंचधा। अध्यात्म चैब प्राणस्य विज्ञाया मृत्यश्नुते॥
 
अर्थात्- प्राण कहाँ से उत्पन्न होता है? कहाँ से शरीर में आता है? कहाँ रहता है? किस प्रकार व्यापक होता है? उसका अध्यात्म क्या है? जो इन पाँच बातों को जान लेता है वह अमृतत्व को प्राप्त कर लेता है।
 
== सन्दर्भ ==

दिक्चालन सूची