"अंतर्राष्ट्रीय मानक पुस्तक संख्या" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
सम्पादन सारांश रहित
छो (2405:205:A02B:577:0:0:C66:50A5 (Talk) के संपादनों को हटाकर [[User:संजीव कुमार|संजीव...)
978-93-87089-05-1
 
[[चित्र:ISBN Details.svg|thumb|१० और १३ अंकों वाले आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ संख्यांक के अलग-अलग हिस्सों से किताब के बारे में अलग-अलग जानकारी मिलती है]]
'''अंतर्राष्ट्रीय मानक पुस्तक संख्यांक''', जिसे आम तौर पर '''आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰''' ("इन्टर्नैशनल स्टैन्डर्ड बुक नम्बर" या ISBN) संख्यांक कहा जाता है हर किताब को उसका अपना अनूठा संख्यांक (सीरियल नम्बर) देने की विधि है। इस संख्यांक के ज़रिये विश्व में छपी किसी भी किताब को खोजा जा सकता है और उसके बारे में जानकारी प्राप्त की जा सकती है। पहले यह केवल उत्तर अमेरिका, यूरोप और जापान में प्रचलित था, लेकिन अब धीरे-धीरे पूरे विश्व में फैल गया है। आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ संख्यांक में १० अंक हुआ करते थे, लेकिन २००७ के बाद से १३ अंक होते हैं।
बेनामी उपयोगकर्ता

दिक्चालन सूची