बदलाव

Jump to navigation Jump to search
48 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
'''{{मुख्य|बालाजी विश्वनाथ भट ('''१६६२-१७२०'''}}'''
 
पेशवाओं के क्रम में सातवें पेशवा किंतु पेशवाई सत्ता तथा पेशवावंश के वास्तविक संस्थापक, चितपावन ब्राह्मण, बालाजी विश्वनाथ का जन्म १६६२ ई. के आसपास श्रीवर्धन नामक गाँव में हुआ था। उनके पूर्वज श्रीवर्धन गाँव के मौरूसी देशमुख थे। (धनाजी घोरपडे के सहायक के रूप में तारा रानी के दरबार में लिपिक वर्ग से इन्होनेइन्होंने अपने करियर की शुरुआत की एवं जल्द ही अपनी बौद्धिक प्रतिभा के बल पर दौलताबाद के सर-सुभेदार नियुक्त किये गए | गए।) सीदियों के आतंक से बालाजी विश्वनाथ को किशोरावस्था में ही जन्मस्थान छोड़ना पड़ा, किंतु अपनी प्रतिभा से उन्होंने उत्तरोत्तर उन्नति की तथा साथ में बहोतअमित अनुभव का भी संचय किया। औरंगजेब के बंदीगहबंदीगृह से मुक्ति पा राज्यारोहण के ध्येय से जब महाराजा शाहू ने महाराष्ट्र में पदार्पण किया, तब बालाजी विश्वनाथ ने उसका पक्ष ग्रहण कर उसकी प्रबल प्रतिद्वंद्विनी ताराबाई तथा प्रमुख शत्रु चंद्रसेन जाघव, ऊदाजी चव्हाण और दामाजी योरट को परास्त कर न केवल शाहू को सिंहासन पर आरूढ़ किया, वरन् उसकी स्थिति सुदृढ़ कर महाराष्ट्र को पारस्परिक संघर्ष से ध्वस्त होने से बचा लिया। फलत: कृतज्ञ शाहू ने १७१३ में बालाजी विश्वनाथ को पेशवा नियुक्त किया। तदनंतर, पेशवा ने सशक्त पोतनायक कान्होजी आंग्रे से समझौता कर (१७१४) शाहू की मर्यादा तथा राज्य की अभिवृद्धि की। उसका सर्वाधिक महत्वपूर्ण कार्य मुगलों से संधिस्थापन था, जिसके परिणामस्वरूप मराठों को दक्खिन में चौथ तथा सरदेशमुखी के अधिकार प्राप्त हुए (१७१९)। इसी सिलसिले में पेशवा की दिल्ली यात्रा के अवसर पर मुगल वैभव के खोखलेपन की अनुभूति हो जाने पर महाराष्ट्रीय साम्राज्यवादी नीति का भी बीजारोपण हुआ। अद्भुत कूटनीतिज्ञता उनकी विशेषता मानी जाती है।
(बालाजी विश्वनाथ की पत्नी का नाम राधा बाई था |था। उनके दो पुत्र एवं दो कन्याएकन्याएँ थी |थीं। उनके पुत्र - पुत्रियों के नाम हैं श्रीमंत: बाजीराव जो उनके पश्चात पेशवा बने इनके छोटे पुत्र श्रीमानऔर चिमनाजी साहिबअप्पा। दो पुत्रिया भी थीथीं उनके नाम भयू बाई साहिब और अनु बाई साहिब |साहिब।)
 
== बाजीराव प्रथम ==

दिक्चालन सूची