"लक्ष्मण": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
13 बाइट्स हटाए गए ,  4 वर्ष पहले
ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: मे → में
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
(ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: मे → में)
 
== सदाचार का आदर्श ==
सीता की खोज करते समय जब मार्ग में सीता के आभूषण मिलते हैं तो राम लक्ष्मण से पूछते हैं "हे लक्ष्मण! क्या तुम इन आभूषणों को पहचानते हो?" लक्ष्मण ने उत्तर मेमें कहा "मैं न तो बाहों में बंधने वाले केयूर को पहचानता हूँ और न ही कानों के कुण्डल को। मैं तो प्रतिदिन माता [[सीता]] के चरण स्पर्श करता था। अतः उनके पैरों के नूपुर को अवश्य ही पहचानता हूँ।" सीता के पैरों के सिवा किसी अन्य अंग पर दृष्टि न डालने सदाचार का आदर्श है।
 
== वैराग्य की मूर्ति ==
लक्ष्मण के अंगद तथा चन्द्रकेतु नामक दो पुत्र हुये जिन्होंने क्रमशः अंगदीया पुरी तथा चन्द्रकान्ता पुरी की स्थापना की।
 
{{साँचा:श्री राम चरित मानस}}
 
[[श्रेणी:रामायण के पात्र]]

नेविगेशन मेन्यू