"मदुरई" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
618 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (बॉट: अनुभाग एकरूपता)
| website = www.maduraicorporation.in
}}
'''मदुरै''' या '''मदुरई''' ({{lang-ta|மதுரை}} एवं {{IPA2|mɐd̪ɯrəj}}), दक्षिण [[भारत]] के [[तमिल नाडु]] राज्य के [[मदुरई जिला|मदुरई जिले]] का मुख्यालय नगर है। यह भारतीय प्रायद्वीप के प्राचीनतम बसे शहरों में से एक है।<ref name="FrommersIndia">फ्रॉमर्स इण्डिया, द्वारा: पिप्पा देब्र्यून, कीथ बैन, नीलोफर वेंकटरमन, शोनार जोशी</ref> इस शहर को अपने प्राचीन मंदिरों के लिये जाना जाता है। यहाँ का [[मीनाक्षी मंदिर]] विश्व के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। इस शहर को कई अन्य नामों से बुलाते हैं, जैसे कूडल मानगर, तुंगानगर (कभी ना सोने वाली नगरी), मल्लिगई मानगर (मोगरे की नगरी) था पूर्व का [[एथेंस]]। यह [[वैगई नदी]] के किनारे स्थित है। लगभग २५०० वर्ष पुराना यह स्थान तमिल नाडु राज्य का एक महत्वपूर्ण सांस्कृतिक और व्यावसायिक केंद्र है। यहां का मुख्य आकर्षण [[मीनाक्षी मंदिर]] है जिसके ऊंचे गोपुरम और दुर्लभ मूर्तिशिल्प श्रद्धालुओं और सैलानियों को आकर्षित करते हैं। इस कारणं इसे मंदिरों का शहर भी कहते हैं।<ref name="FrommersIndia"/> मदुरै एक समय में तमिल शिक्षा का मुख्य केंद्र था और आज भी यहां शुद्ध [[तमिल]] बोली जाती है। यहाँ शिक्षा का प्रबंध उत्तम है। यह नगर जिले का व्यापारिक, औद्योगिक तथा धार्मिक केंद्र है। उद्योगों में सूत कातने, रँगने, मलमल बुनने, लकड़ी पर खुदाई का काम तथा पीतल का काम होता है। यहाँ की जनसंख्या ११ लाख ८ हजार ७५५ (२००४ अनुमानित) है।<ref name=secondlargestcity>[http://203.101.40.168/newmducorp/general.htm द्वितीय बड़ शहर- त.ना. राज्य सरकार]</ref> आधुनिक युग में यह प्रगति के पथ पर अग्रसर है और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पाने में प्रयासरत है, किंतु अपनी समृद्ध परंपरा और संस्कृति को भी संरक्षित किए हुए है। इस शहर के प्राचीन [[यूनान]] एवं [[रोम]] की सभ्यताओं से ५५० ई.पू. में भी व्यापारिक संपर्क थे।<ref name="http://www.madurai.com/madurai.htm">http://www.madurai.com/madurai.htm</ref><ref name="FrommersIndia"/>
 
मदुरै एक समय में तमिल शिक्षा का मुख्य केंद्र था और आज भी यहां शुद्ध [[तमिल]] बोली जाती है। यहाँ शिक्षा का प्रबंध उत्तम है। यह नगर जिले का व्यापारिक, औद्योगिक तथा धार्मिक केंद्र है। उद्योगों में सूत कातने, रँगने, मलमल बुनने, लकड़ी पर खुदाई का काम तथा पीतल का काम होता है। यहाँ की जनसंख्या ११ लाख ८ हजार ७५५ (२००४ अनुमानित) है।<ref name=secondlargestcity>[http://203.101.40.168/newmducorp/general.htm द्वितीय बड़ शहर- त.ना. राज्य सरकार]</ref> आधुनिक युग में यह प्रगति के पथ पर अग्रसर है और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पाने में प्रयासरत है, किंतु अपनी समृद्ध परंपरा और संस्कृति को भी संरक्षित किए हुए है। इस शहर के प्राचीन [[यूनान]] एवं [[रोम]] की सभ्यताओं से ५५० ई.पू. में भी व्यापारिक संपर्क थे।<ref name="http://www.madurai.com/madurai.htm">http://www.madurai.com/madurai.htm</ref><ref name="FrommersIndia"/>
 
==नाम ==
स्थानीय लोग इसे ''तेन मदुरा'' कहते हैं, यानि दक्षिणी मथुरा - उत्तर भारत के [[मथुरा]] की उपमा में । अन्य भी कई किंवदंतियाँ हैं इसके नामाकरण को लेकर, लेकिन पहला अधिक उपयुकत इसलिए लगता है कयोंकि यहाँ ऐतिहासिक रूप से पांड्य राजाओं का शासन रहा है, चोळों के साम्राज्य में भी यहाँ पांड्यों की उपसथिति रही है ।
 
== भूगोल एवं मौसम ==
8,287

सम्पादन

दिक्चालन सूची