"लक्ष्मण": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
118 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
No edit summary
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
== भाई के लिये बलिदान की भावना का आदर्श ==
वाल्मीकि रामायण के अनुसार राक्षस [[कबंध]] से युद्ध के अवसर पर लक्ष्मण राम से कहते हैं, "हे राम! इस कबंध राक्षस का वध करने के लिये आप मेरी बलि दे दीजिये। मेरी बलि के फलस्वरूप आप सीता तथा अयोध्या के राज्य को प्राप्त करने के पश्चात् आप मुझे स्मरण करने की कृपा बनाये रखना।"रखना और लक्ष्मण लगातार चौदह वर्ष वर्ष तक नही सोए थे
 
== सदाचार का आदर्श ==
बेनामी उपयोगकर्ता

नेविगेशन मेन्यू