"सात्विक आहार" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
14 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
wsqsqs
(wsqsqs)
 
योगशास्त्रों और साधना ग्रन्थों ने अन्तःकरण को पवित्र एवं परिष्कृत करने के लिए सात्विक आहार ही अपनाने को कहा है। [[गीता]] में [[कृष्ण]] ने सात्विक, राजसी और तामसी आहार की सुस्पष्ट व्याख्या की है तथा शरीर, मन और बुद्धि पर उसके पड़ने वाले प्रभावों का भी स्पष्ट विवेचना किया है। आत्मिक प्रगति के आकांक्षी और साधना मार्ग के पथिकों के लिए इस बात का निर्देश दिया गया है कि सात्विक आहार ही अपनाया जाये और उसकी सात्विकता को भी भावनाओं का सम्पुट देकर आत्मिक चेतना में अधिक सहायता दे सकने योग्य बनाया जाय। भगवान् का भोग प्रसाद, यज्ञाग्नि में पकाया गया चरुद्रव्य इसी प्रकार के पदार्थ हैं जिनकी स्थूल विशेषता न दिखाई देने पर भी उनकी सूक्ष्म सामर्थ्य बहुत अधिक होती है।<ref>[http://hindi.awgp.org/gayatri/AWGP_Offers/Literature_Life_Transforming/Books_Articles/Panchkosh_jagran/anamaykosh_usaki_sadhana/trivid_prayojan आहार के त्रिविध स्तर, त्रिविध प्रयोजन]</ref>
 
Varat maine
 
==सन्दर्भ==
बेनामी उपयोगकर्ता

दिक्चालन सूची