"पुष्पक विमान" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
375 बैट्स् जोड़े गए ,  3 वर्ष पहले
कई अध्ययन एवं शोधकर्त्ताओं के अनुसार, रावण की लंका में इस पुष्पक विमान के अलावा भी कई प्रकार के विमान थे, जिनका प्रयोग वह अपने राज्य के अलग-अलग भागों में तथा राज्य के बाहर आवागमन हेतु किया करता था। इस तथ्य की पुष्टि वाल्मिकी रामायण के श्लोक द्वारा भी होती है, जिसमें लंका विजय उपरान्त राम ने पुष्पक विमान में उड़ते हुए लक्ष्मण से यह कहा था कि कई विमानों के साथ, धरती पर लंका चमक रही है। यदि यह विष्णु की का वैकुंठधाम होता तो यह पूरी तरह से सफेद बादलों से घिरा होता।<ref name="जगत"/>
 
इन विमाज़ों के उड़ने व अवत्तरण हेतु लंका में छह विमानक्षेत्र थे।<ref येname=""> इस{{cite प्रकारweb से हैं|url=http://www.delhitopnews.com/astro/the-history-of-this-gold-lanka/
|title= जानिए, इस सोने की लंका का इतिहास…
 
|accessmonthday= |accessdate= |last= |first= |authorlink= |coauthors= |date= |year= |month= |format= |work= |publisher= |pages= |language=
 
|archiveurl= |archivedate= |quote= }} </ref> ये इस प्रकार से हैं:
 
* वेरागन्टोटा (वर्त्तमान श्रीलंका के महीयांगना): वेरागन्टोटा एक [[सिंहली भाषा]] का शब्द है, जिसका अर्थ होता है विमान के अवतरण का स्थल।

दिक्चालन सूची