"प्रशीतन" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
221 बैट्स् नीकाले गए ,  4 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
पानी या बर्फ में नमक के संयोग से बर्फ के टुकड़ों से सामान्यतया पानी चिपका रहता है। जब उनके साथ नमक मिलाया जाता है तब वह उस पानी में गल जाता है और बर्फ पिघलती है। विलयन ऊष्मा (heat of solution) और बर्फ गलने की गुप्त ऊष्मा उसी मिश्रण से प्राप्त होती हैं तथा फलस्वरूप मिश्रण का ताप का यह पतन एक निश्चित सीमा से अधिक नहीं हो सकता। जब मिश्रण का ताप लगभग -21.20 सें. तक पहुँच जाता है, तब उसका पतन रुक जाता है और अधिक नमक उस विलयन में डालने से कोई परिवर्तन नहीं होता। इस ताप को गलनक्रांतिक ताप (Eutectic temperature) कहते हैं। इस ताप पर विलयन के आ जाने के बाद उसमें अधिक नमक नहीं घुल सकता। नीचे कुछ लवणों के, जो पानी में घुल सकते हैं, नाम और उनके संगत गलन क्रांतिक ताप के मान दिए जा रहे हैं :
 
लवण मिश्रण के 100 ग्राम में मिश्रित गलन [[क्रांतिक ताप]]
अजल लवण की मात्रा (डिग्री सेंटिग्रेड)
मैग्नीशियम सल्फेट 19.0 -39
जिंक सल्फेट 27.2 -6.5
पोटासियम क्लोराइड 19.7 -11.1
अमोनियम क्लोराइड 18.6 15.8
अमोनियम नाइट्रेट 41.2 -17.4
सोडियम नाइट्रेट 37.0 -18.5
सोडियम क्लोराइड 22.4 -21.2
मैग्नीशियम क्लोराइड 21.6 -33.6
कैल्सियम क्लोराइड 29.8 -55
पोटासियम हाइड्रॉक्साइड 31.5 -65
 
=== कम दाब पर द्रव के क्वथन द्वारा प्रशीतन ===

दिक्चालन सूची