"वेणीसंहार" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
2,405 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
'''वेणीसंहारम्''', [[भट्टनारायण]] द्वारा रचित प्रसिद्ध [[संस्कृत]] [[नाटक]] है। भट्टनारायण ने [[महाभारत]] को 'वेणीसंहार' का आधार बनाया है। 'वेणी' का अर्थ है, स्त्रयों का केश अर्थात् 'चोटी' और 'संहार' का अर्थ है सजाना, व्यवस्थित करना या, गुंफन करना। वेणीसंहार नाटक को नाटयकला का उत्कृष्ट उदाहरण माना जाता है और भटटनारायण को एक सफल नाटककार के रूप में स्मरण किया जाता है। [[नाटयशास्त्र]] की नियमावली का विधिवत पालन करने के कारण नाटयशास्त्र के आचार्यों ने भटटनारायण को बहुत महत्त्व दिया है।
 
[[दुःशासन]], [[द्रौपदी]] के खुले हुए केश पकड़ के बलपूर्वक घसीटता हुआ द्युतसभा में लाता है, तभी द्रौपदी प्रतिज्ञा करती है कि जबतक दुःशासन के रक्त से अपने बालो को भिगोएगी नहीं तब तक अपने बाल ऐसे ही बिखरे हुए रखेगी। भट्टनारायण रचित इस नाटक के अंत में [[भीम]] दुःशासन का वध करके उसका रक्त द्रौपदी के खुले केश में लगाते हैं और चोटी का गुंफन करते हैं। इसी प्रसंग के आधार भट्ट नारायण ने इस नाटक का शीर्षक 'वेणीसंहार' रखा है।
 
छः अंक के कथावस्तु वाले इस 'वेणीसंहार' नाटक की मुख्य और सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसमें महाभारत की सम्पूर्ण युद्धकथा को समाविष्ट किया गया है। 'वेणीसंहार' नाटक की दूसरी विशेषता तृतीय अंक का प्रसंग कर्ण और अश्वत्थामा का कलह है।
 
नाटक का नायक दुर्योधन है, क्योंकि उसको लक्ष्य में रखकर समस्त घटनाएं चित्रित हैं। इसीलिए उसके दु:ख, पराभव और मृत्यु का वर्णन होने से यह एक [[दुःखान्त नाटक]] माना जाता है। कुछ विद्वान [[भीम]] को नाटक का नायक मानने के पक्ष में हैं, क्योंकि इसमें [[वीर रस]] की प्रधानता है तथा नाटक की कथा भीम की प्रतिज्ञाओं पर आधारित है। भीमसेन का चरित्र प्रभावशाली और आकर्षक है। उनके भाषणों से उनकी वीरता और पराक्रम का पता लगता है। उसमें आत्मविश्वास का अतिरेक है। [[अश्वत्थामा]] अपने गुणों को प्रकट किये बिना अपूर्ण व्यक्तित्व सा है।
 
नाटककार निस्सन्देह घटना-संयोजन में अत्यन्त दक्ष हैं। उनके वर्णन सार्थक और स्वाभाविक हैं। नाटक का प्रधान रस, वीर है। गौड़ी रीति, ओज गुण और प्रभावी भाषा-उसकी अन्य विशेषताएं हैं।
 
==बाहरी कड़ियाँ==

दिक्चालन सूची