"जैन धर्म में भगवान": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  5 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
छो (→‎पंच परमेष्ठी: सही लिंक)
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
 
:क्षुत्पिपासाजराजरातक्ड जन्मान्तकभयस्मयाः।
:न रागद्वेषमोहाश्च यस्याप्तः स प्रकीर्त्यतेप्रकीर्त्यते। ।।६।।।६।।
 
भूक, प्यास, बुढापा, रोग, जन्म, मरण, भय, घमण्ड, राग, द्वेष, मोह, निद्रा, पसीना आदि २८ दोष नहीं होते वही वीतराग देव कहें जाते हैं।{{sfn|जलज|२००६|प=८}}

नेविगेशन मेन्यू