"कुंतक": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
4 बैट्स् जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
No edit summary
Srinagar pano.jpg
[[चित्र:Srinagar pano.jpg|अंगूठाकार|कशमीर के कवीकवि थे]]
'''कुंतक''', [[अलंकारशास्त्र]] के एक मौलिक विचारक विद्वान् थे। ये अभिधावादी[[अभिधा]]वादी आचार्य थे जिनकी दृष्टि में [[अभिधा शक्ति]] ही कवि के अभीष्ट अर्थ के द्योतन के लिए सर्वथा समर्थ होती है। इनका काल निश्चित रूप से ज्ञात नहीं हैं। किंतु विभिन्न अलंकार ग्रंथों के अंत:साक्ष्य के आधार पर समझा जाता है कि ये दसवीं शती ई. के आसपास हुए होंगे।
 
कुन्तक अभिधा की सर्वातिशायिनी सत्ता स्वीकार करने वाले आचार्य थे। परंतु यह अभिधा संकीर्ण आद्या शब्दवृत्ति नहीं है। अभिधा के व्यापक क्षेत्र के भीतर लक्षणा और व्यंजना का भी अंतर्भाव पूर्ण रूप से हो जाता है। वाचक शब्द द्योतक तथा व्यंजक उभय प्रकार के शब्दों का उपलक्षण है। दोनों में समान धर्म अर्थप्रतीतिकारिता है। इसी प्रकार प्रत्येयत्व (ज्ञेयत्व) धर्म के सादृश्य से द्योत्य और व्यंग्य अर्थ भी उपचारदृष्ट्या वाच्य कहे जा सकते हैं।

नेविगेशन मेन्यू