"रासायनिक तत्व" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
छो (49.14.158.128 (Talk) के संपादनों को हटाकर Hunnjazal के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
स्टाल ने चार तत्व माने थे अम्ल, जल, पृथ्वी और फलॉजिस्टन। यह अंतिम तत्व वस्तुओं के जलने में सहायक होता था। रॉबर्ट बॉयल की परिभाषा को मानकर रसायनज्ञों ने तत्वों की सूची तैयार करनी प्रारंभ की। बहुत समय तक पानी तत्व माना जाता रहा। 1774 ई0 में [[प्रीस्टली]] ने [[ऑक्सीजन]] गैस तैयार की। [[कैवेंडिश]] ने 1781 ई0 में आक्सीजन और हाइड्रोजन के योग से पानी तैयार करके दिखा दिया और तब पानी तत्व न रहकर [[यौगिक|यौगिकों]] की श्रेणी में आ गया। [[लाव्वाज्ये]] ने 1789 ई0 में यौगिक और तत्व के प्रमुख अंतरों को बताया। उसके समय तक तत्वों की संख्या 23 पहुँच चुकी थी। 19वीं शती में [[सर हंफ्री डेवी]] ने [[नमक]] के मूल तत्व [[सोडियम]] को भी पृथक् किया और [[कैल्सियम]] तथा [[पोटासियम]] को भी यौगिकों में से अलग करके दिखा दिया। डेवी के समय के पूर्व [[क्लोरीन]] के तत्व होने में संदेह माना जाता था। लोग इसे ऑक्सिम्यूरिएटिक अम्ल मानते थे, क्योकि यह म्यूरिएटिक अम्ल (नमक का तेजाब) के ऑक्सीकरण से बनता था, पर डेवी (1809-1818 ई0) ने सिद्ध कर दिया कि क्लोरीन तत्व है।
 
प्रकृति में कितने तत्व हो सकते हैं, इसका पता बहुत दिनों तक रसायनज्ञों को न था। अत: तत्वों की खोज के इतिहास में बहुत से ऐसे तत्वों की भी घोषणा कर दी गई, जिन्हें आज हम तत्व नहीं मानते। 20वीं शती में [[मोजली]] नामक तरुण वैज्ञानिक ने [[परमाणु संख्या]] की कल्पना रखी, जिससे स्पष्ट हो गया कि सबसे हलके तत्व [[हाइड्रोजन|उदजन]] से लेकर प्रकृति में प्राप्त सबसे भारी तत्व [[यूरेनियम]] तक तत्वों की संख्या लगभग 100 हो सकती है। [[रेडियोधर्मिता|रेडियोधर्मी]] तत्वों की खोज ने यह स्पष्ट कर दिया कि तत्व [[बॉयल]] की परिभाषा के अनुसार सर्वथा अविभाजनीय नहीं है। प्रकृति में यूरेनियम विभक्त होकर स्वयं दूसरे तत्वों में परिणत होता रहता है। प्रयोगों ने यह भी संभव करके दिखा दिया है कि हम अपनी प्रयोगशालाओं में तत्वों का विभाजन और नए तत्वों का निर्माण भी कर सकते हैं। यूरेनियम के आगे 8-9 तत्वों को कृत्रिम विधि से बनाया भी जा सका है।
 
== प्रचुरता ==
बेनामी उपयोगकर्ता

दिक्चालन सूची