"लक्ष्मणेश्वर महादेव मंदिर": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
छो
बॉट: लाघव चिह्न (॰) का प्रयोग।
(सन्दर्भ के लिए ब्लॉग की कड़ी का उपयोग किया गया था जिसे विश्वसनीय स्रोत नहीं माना जा सकता)
छो (बॉट: लाघव चिह्न (॰) का प्रयोग।)
|देवता= [[शिवलिंग]]
|वास्तुकला = [[हिन्दू]]
|स्थान=[[रायपुर]] से १२० कि.मी.कि॰मी॰ संस्कारधानी [[शिवरीनारायण]] से ३ कि.मी.कि॰मी॰
}}'''लक्ष्मणेश्वर महादेव मंदिर''' [[छत्तीसगढ़]] की राजधानी [[रायपुर]] से १२० कि.मी.कि॰मी॰ तथा संस्कारधानी [[शिवरीनारायण]] से ३ कि.मी.कि॰मी॰ की दूरी पर बसे खरौद नगर में स्थित है। यह नगर प्राचीन छत्तीसगढ़ के पाँच ललित कला केन्द्रों में से एक हैं और मोक्षदायी नगर माना जाने के कारण इसे ''छत्तीसगढ़ की काशी'' भी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि यहाँ रामायण कालीन शबरी उद्धार और लंका विजय के निमित्त भ्राता लक्ष्मण की विनती पर श्रीराम ने खर और दूषण की मुक्ति के पश्चात 'लक्ष्मणेश्वर महादेव' की स्थापना की थी।<ref>{{cite web |url= http://www.srijangatha.com/2007-08/August07/pustkayan-a.ikesharwani.htm|title= गुप्त से प्रकाशमान होता शिवरीनारायण|accessmonthday=[[३१ मार्च]]|accessyear=[[२००९]]|format= एचटीएम|publisher=सृजनगाथा|language=}}</ref>
 
यह मंदिर नगर के प्रमुख देव के रूप में पश्चिम दिशा में पूर्वाभिमुख स्थित है। मंदिर में चारों ओर पत्थर की मजबूत दीवार है। इस दीवार के अंदर ११० फीट लंबा और ४८ फीट चौड़ा चबूतरा है जिसके ऊपर ४८ फुट ऊँचा और ३० फुट गोलाई लिए मंदिर स्थित है। मंदिर के अवलोकन से पता चलता है कि पहले इस चबूतरे में बृहदाकार मंदिर के निर्माण की योजना थी, क्योंकि इसके अधोभाग स्पष्टत: मंदिर की आकृति में निर्मित है। चबूतरे के ऊपरी भाग को परिक्रमा कहते हैं। मंदिर के गर्भगृह मे एक विशिष्ट शिवलिंग की स्थापना है। इस शिवलिंग की सबसे बडी विशेषता यह है कि शिवलिंग मे एक लाख छिद्र है इसीलिये इसका नाम लक्षलिंग भी है। सभा मंडप के सामने के भाग में सत्यनारायण मंडप, नन्दी मंडप और भोगशाला हैं।

नेविगेशन मेन्यू