"ईश्वर" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
125 बैट्स् जोड़े गए ,  12 वर्ष पहले
छो
193.170.211.43 (Talk) के संपादनोंको हटाकर DragonBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
छो (193.170.211.43 (Talk) के संपादनोंको हटाकर DragonBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
[[वेद]] के अनुसार व्यक्ति के भीतर पुरुष ईश्वर ही है। परमेश्वर एक ही है। वैदिक और पाश्चात्य मतों में परमेश्वर की अवधारणा में यह गहरा अन्तर है कि वेद के अनुसार ईश्वर भीतर और परे दोनों है जबकि पाश्चात्य धर्मों के अनुसार ईश्वर केवल परे है। ईश्वर परब्रह्म का सगुण रूप है।
 
वैष्णव लोग [[विष्णु]] को ही ईश्वर मानते है, तो शैव [[शिव]] को ।
Schwarzi ist gay!!!!!!
 
योग सूत्र में पातन्जलि लिखते है - "क्लेशकर्मविपाकाशयॅर्परामृष्टः पुरुषविशेष ईश्वरः"। हिन्दु धर्म में यह ईश्वर की एक मान्य परिभाषा है।
970

सम्पादन

दिक्चालन सूची