बदलाव

Jump to navigation Jump to search
51 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
== पाणिनीय व्याकरण के चार भाग ==
 
*'''(क) [[अष्टाध्यायी]]''' - इसमें व्याकरण के लगभग ४००० सूत्र हैं।
 
*'''(ख) [[शिवसूत्र]] या [[माहेश्वर सूत्र]]''' - यह [[प्रत्याहार]] बनाने में सहायक होता है। प्रत्याहार के प्रयोग से व्याकरण के नियम संक्षिप्त रूप में पूरी स्पष्टता से कहे गये हैं।
 
* '''(ग) [[धातुपाठ]]''' - इस भाग में लगभग २००० धातुओं[[धातु]]ओं (क्रियाओं) की सूची दी गयी है। इन धातुओं को विभिन्न वर्गों में रखा गया है।
 
* '''(घ) [[गणपाठ]]''' - यह २६१ शब्दों का संग्रह है।
 
== पाणिनीय व्याकरण की प्रमुख विशेषताएँ ==

दिक्चालन सूची