"हैरी एस ट्रूमैन" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
छो
बॉट: विराम चिह्नों के बाद खाली स्थान का प्रयोग किया।
छो (Bot: Migrating 1 interwiki links, now provided by Wikidata on d:q11613 (translate me))
छो (बॉट: विराम चिह्नों के बाद खाली स्थान का प्रयोग किया।)
सन् 1945 में कार्यालय समाप्त होने से पहले ही अचानक राष्ट्रपति रूजवेल्ट की मृत्यु हो जाने पर ट्रूमन राष्टपति बने। अनेक समस्याओं में वे रूजवेल्ट की नीति से प्राय: अनभिज्ञ ही रहे थे इसलिये उनके लिये प्रशासन सबसे अधिक जटिल साबित हुआ।
 
ट्रूमैन के कार्यकाल में कई महत्वपूर्ण घटनाएँ घटी जैसे कि जर्मनी पर विजय, हिरोशिमा और नागासाकी पर एटम बम का गिराना, जापान का आत्मसर्मपण, और द्वितीय विश्व युद्ध की समाप्ति, संयुक्त राष्ट्र की स्थापना, युरोप के पुनर्निर्माण के लिए मारशल प्लान की घोषणा, साम्यवाद को रोकने के लिए ट्रूमन डाक्ट्रीन की घोषणा, शीत युद्ध का आरम्भ और कोरिया से युद्ध।
 
अपनी गृहनीति में उन्हें काफी कठिनाइयाँ उठानी पड़ीं क्योंकि कोरिया के शीतयुद्ध ने अमरीका की अंतरराष्ट्रीय जिम्मदारियों को बहुत गंभीर कर दिया। अंतरराष्ट्रीय स्थिति में अमरीका के स्थान को सँभालने की दृष्टि से उन्होंने नाटो संगठन का सूत्रपात्र किया।

दिक्चालन सूची