"सुत्तपिटक": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
1 बाइट जोड़ा गया ,  7 वर्ष पहले
छो
बॉट: विराम चिह्नों के बाद खाली स्थान का प्रयोग किया।
छो (हलान्त शब्द की पारम्परिक वर्तनी को आधुनिक वर्तनी से बदला।)
छो (बॉट: विराम चिह्नों के बाद खाली स्थान का प्रयोग किया।)
 
== विभाजन ==
इसका विस्तार इस प्रकार है<ref>[http://pustak.org/bs/home.php?bookid=1239 प्राचीन भारत की श्रेष्ठ कहानियाँ, लेखकः जगदीश चन्द्र जैन, प्रकाशक:भारतीय ज्ञानपीठ, प्रकाशित : मई ०९, २००३]</ref><ref>पृष्ठ ९, पुस्तकःबुद्धवचन त्रिपिटकया न्हापांगु निकाय ग्रन्थ दीघनिकाय, वीरपूर्ण स्मृति ग्रन्थमाला भाग-३, अनुवादक:दुण्डबहादुर बज्राचार्य, भाषा:नेपालभाषा, मुद्रकःनेपाल प्रेस</ref>-
* '''सुत्तपिटक'''
** [[दीघनिकाय]] (दीघ=लम्बा; भगवान बुद्धद्वारा प्रवर्चित लम्बे सुत्रौं का संकलन)

नेविगेशन मेन्यू