"राजा हरिश्चन्द्र" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
छो
बॉट: अंगराग परिवर्तन।
छो (बॉट: अंगराग परिवर्तन।)
यज्ञ की समाप्ति सुनकर रोहिताश्व भी वन से लौट आया और शुन:शेप विश्वामित्र का पुत्र बन गया। [[विश्वामित्र]] के कोप से हरिश्चंद्र तथा उनकी रानी शैव्या को अनेक कष्ट उठाने पड़े। उन्हें काशी जाकर श्वपच के हाथ बिकना पड़ा, पर अंत में रोहिताश्व की असमय मृत्यु से देवगण द्रवित होकर पुष्पवर्षा करते हैं और राजकुमार जीवित हो उठता है।
 
== कथा==
राजा हरिश्चन्द्र ने सत्य के मार्ग पर चलने के लिये अपनी पत्नी और पुत्र के साथ खुद को बेच दिया था। कहा जाता है-
:चन्द्र टरै सूरज टरै, टरै जगत व्यवहार, पै दृढ श्री हरिश्चन्द्र का टरै न सत्य विचार।
 
इनकी पत्नी का नाम तारा था और पुत्र का नाम रोहित। इन्होने अपने दानी स्वभाव के कारण विश्वामित्र जी को अपने सम्पूर्ण राज्य को दान कर दिया था, लेकिन दान के बाद की दक्षिणा के लिये साठ भर सोने में खुद तीनो प्राणी बिके थे, और अपनी मर्यादा को निभाया था,सर्प के काटने से जब इनके पुत्र की मृत्यु हो गयी तो पत्नी तारा अपने पुत्र को शमशान में अन्तिम क्रिया के लिये ले गयी। वहाँ पर राजा खुद एक डोम के यहाँ नौकरी कर रहे थे और शमशान का कर लेकर उस डोम को देते थे। उन्होने रानी से भी कर के लिये आदेश दिया, तभी रानी तारा ने अपनी साडी को फाड़कर कर चुकाना चाहा,उसी समय आकाशवाणी हुयी और राजा की ली जाने वाली दान वाली परीक्षा तथा कर्तव्यों के प्रति जिम्मेदारी की जीत बतायी गयी।
== इन्हें भी देखें==
* [[राजा हरिश्चन्द्र (फ़िल्म)|राजा हरिश्चन्द्र]] – पूर्ण लम्बाई की प्रथम भारतीय फ़िल्म।
{{अयोध्या के सूर्यवंशी राजा}}
 
== बाहरी कड़ियाँ==
*[http://www.agoodplace4all.com/?p=6058 सत्यवादी राजा हरिश्चन्द्र]
*[http://www.hindisahityadarpan.in/2012/10/fabulous-moral-stories-from-hindu.html सत्यवादी राजा हरिश्चन्द्र ]

दिक्चालन सूची