"मध्य पूर्व" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
20 बैट्स् नीकाले गए ,  5 वर्ष पहले
छो
विराम चिह्न की स्थिति सुधारी।
छो (Bot: Migrating 2 interwiki links, now provided by Wikidata on d:Q7204)
छो (विराम चिह्न की स्थिति सुधारी।)
मध्यपूर्व, अपने विस्तृत रूप में एक बहुत ही पुराना क्षेत्र है। अक्सर पश्चिमी विद्वान इसे सभ्यता के आरंभ स्थल की संज्ञा देते हैं क्योंकि यहाँ यहूदी, ईसाई और इस्लाम धर्म के अलावा अन्य कई मतो और विश्वासों का जन्म हुआ था। [[उर्वर चन्द्र]] उस क्षेत्र को कहते हैं जो आज के दक्षिणी इराक में [[दजला]] और [[फ़ुरात]] नदियों के बीच था। पश्चिमी विद्वान मानते हैं कि सबसे पहले सभ्यता की शुरुआत यहीं से हुई थी। बेबीलोन और मिस्र की सभ्यताओं को प्राचीन दुनिया की सबसे विकसित सभ्यता माना जाता है। अक्सर चीनी सभ्यता के समर्थक इसका विरोध करते हैं पर यहाँ कई असाधारण अवधारणाओं का जन्म हुआ जैसे- लेखन कला, कई धर्म और धर्मयुद्ध।
 
ईसा के 1200 साल पहले हजरत मूसा ने [[मिस्र]] के फराओ (राजा) के यहाँ से यहूदियों को मुक्त कराया और ''इसरायल'' तथा ''जुडया'' नामक दो राज्यों की स्थापना आज के इजरायल के क्षेत्र में की ।की। ईसा के 770 साल पहले बेबीलोन के असीरिया और अक्कद ने क्रमशः इन दोनों पर अधिकार कर लिया ।लिया। इन्होंने यहूदियों को बहुत यातनाए दी ।दी। उनके मंदिरों को नष्ट कर डाला और इन्हें इस क्षेत्र से पूर्व की तरफ (आज के ईरान) विस्थापित कर दिया ।दिया। 559 ईसापूर्व में पार्स के राजा [[कुरोश]] ने अपनी सत्ता स्थापित की और उसने बेबीलोन पर अधिकार कर लिया ।लिया। इस काल में यहूदियों को अपनी मातृभूमि वापस लौटने का अवसर मिला ।मिला। फ़ारसियों (पारसी) ने यहूदियों को अपना मंदिर बनाने की भी अनुमति दी ।दी। ईसापूर्व 330 में [[सिकन्दर]] ने फारस पर अधिकार कर लिया ।लिया। ईसा पूर्व 100 के आसपास यह रोमन साम्राज्य का अंग बना ।बना। रोमन लोगों के अपने देवी-देवता थे और वे यहूदियों को बाग़ी के रूप में देखते थे ।थे। [[ईसा मसीह]] ने ईसाई धर्म का आरंभ किया ।किया। पर 313 इस्वी से पहले तक रोम के शासकों ने ईसाईयों को बहुत प्रताड़ना दी ।दी। बिजेन्टाइन (पूर्वी रोमन), फारसी ([[सासानी]]) और अरबों के बीच कई युद्ध हुए ।हुए। [[मुहम्मद साहब]] के परनोपरान्त फ़ारस पर अरबों का अधिकार हो गया औक कालान्तर में ईरान इस्लाम में परिवर्तित हो गया ।गया। पर कुछ राजनैतिक कारणों से ईरानी [[शिया]] बने जबकि अरब सुन्नी रहे ।रहे।
 
सोलहवीं सदी में तुर्कों ने मक्का पर अधिकार कर लिया और वे इस्लाम के सर्वेसर्वा हो गए ।गए। यहूदियों को भगाया गया और वे यूरोप में बसते गए ।गए। 1900 इस्वी के आसपास यहूदी यूरोप से भाग कर आज के इसरायल में आने लगे जो अब तुर्कों का [[फिलीस्तीन]] प्रांत था ।था। 1948 में यहूदियों ने नए स्वतंत्र इसरायल की घोषणा की ।की। अरब देशों और इसरायल में कई युद्ध हुए ।हुए।
 
== मध्य-पूर्व संघर्ष का इतिहास ==

दिक्चालन सूची