"असमिया भाषा" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  8 वर्ष पहले
17वीं शताब्दी से 19वीं शताब्दी के प्रारंभ तक। इस युग में अहोम राजाओं के दरबार की गद्यभाषा का रूप प्रधान है। इन गद्यकर्ताओं को बुरंजी कहा गया है। बुरंजी साहित्य में इतिहास लेखन की प्रारंभिक स्थिति के दर्शन होते हैं। प्रवृत्ति की दृष्टि से यह पूर्ववर्ती धार्मिक साहित्य से भिन्न है। बुरंजियों की भाषा आधुनिक रूप के अधिक निकट है।
 
=== आधुनिक असमियाअसमीया ===
19वीं शताब्दी के प्रारंभ से। 1819 ई. में अमरीकी बप्तिस्त पादरियों द्वारा प्रकाशित असमियाअसमीया गद्य में बाइबिल के अनुवाद से आधुनिक असमियाअसमीया का काल प्रारंभ होता है। मिशन का केंद्र पूर्वी आसाम में होने के कारण उसकी भाषा में पूर्वी आसाम की बोली को ही आधार माना गया। 1846 ई. में मिशन द्वारा एक मासिक पत्र "अरुणोदय" प्रकाशित किया गया। 1848 में असमियाअसमीया का प्रथम व्याकरण छपा और 1867 में प्रथम असमियाअसमीया अंग्रेजी शब्दकोश।
 
== असमिया साहित्य ==
35

सम्पादन

दिक्चालन सूची