"अश्वत्थामा": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
377 बाइट्स हटाए गए ,  9 वर्ष पहले
छो
Bot: Migrating 12 interwiki links, now provided by Wikidata on d:q2044550 (translate me)
छो (r2.7.3) (Robot: Adding mr:अश्वत्थामा)
छो (Bot: Migrating 12 interwiki links, now provided by Wikidata on d:q2044550 (translate me))
[[चित्र:Draupadi and Ashvatthaman, Punjab Hills c. 1730.jpg|thumb|Draupadi and Ashvatthaman, Punjab Hills c. 1730]]
द्रौपदी के इन न्याय तथा धर्मयुक्त वचनों को सुन कर सभी ने उसकी प्रशंसा की किन्तु भीम का क्रोध शांत नहीं हुआ। इस पर श्रीकृष्ण ने कहा, “हे अर्जुन! शास्त्रों के अनुसार पतित ब्राह्मण का वध भी पाप है और आततायी को दण्ड न देना भी पाप है। अतः तुम वही करो जो उचित है।” उनकी बात को समझ कर अर्जुन ने अपनी तलवार से अश्वत्थामा के सिर के केश काट डाले और उसके मस्तक की मणि निकाल ली। मणि निकल जाने से वह श्रीहीन हो गया। श्रीहीन तो वह उसी क्षण हो गया था जब उसने बालकों की हत्या की थी किन्तु केश मुंड जाने और मणि निकल जाने से वह और भी श्रीहीन हो गया और उसका सिर झुक गया। अर्जुन ने उसे उसी अपमानित अवस्था में शिविर से बाहर निकाल दिया।
 
[[en:Ashwatthama]]
[[gu:અશ્વત્થામા]]
[[id:Aswatama]]
[[jv:Aswatama]]
[[kn:ಅಶ್ವತ್ಥಾಮ]]
[[ml:അശ്വത്ഥാമാവ്]]
[[mr:अश्वत्थामा]]
[[ne:अश्वत्थामा]]
[[ru:Ашваттхама]]
[[ta:அசுவத்தாமன்]]
[[te:అశ్వత్థామ]]
[[uk:Ашваттхама]]
39,486

सम्पादन

नेविगेशन मेन्यू