"भारतीय दर्शन": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
38 बाइट्स जोड़े गए ,  9 वर्ष पहले
छो
Bot: अंगराग परिवर्तन
छो (Bot: अंगराग परिवर्तन)
भारतीय मनीषियों के उर्वर मस्तिष्क से जिस कर्म, ज्ञान और भक्तिमय त्रिपथगा का प्रवाह उद्भूत हुआ, उसने दूर-दूर के मानवों के आध्यात्मिक कल्मष को धोकर उन्हेंने पवित्र, नित्य-शुद्ध-बुद्ध और सदा स्वच्छ बनाकर मानवता के विकास में योगदान दिया है। इसी पतितपावनी धारा को लोग '''दर्शन''' के नाम से पुकारते हैं। अन्वेषकों का विचार है कि इस शब्द का वर्तमान अर्थ में सबसे पहला प्रयोग [[वैशेषिक]] दर्शन में हुआ।
 
== ‘दर्शन’ शब्द का अर्थ ==
'दर्शन' शब्द [[पाणिनि|पाणिनीय]] व्याकरण के अनुसार 'दृशिर् प्रेक्षणे' धातु से ल्युट् प्रत्यय करने से निष्पन्न होता है। अतएव दर्शन शब्द का अर्थ दृष्टि या देखना, ‘जिसके द्वारा देखा जाय’ या ‘जिसमें देखा जाय’ होगा। दर्शन शब्द का शब्दार्थ केवल देखना या सामान्य देखना ही नहीं है। इसीलिए पाणिनी ने धात्वर्थ में ‘प्रेक्षण’ शब्द का प्रयोग किया है। प्रकृष्ट ईक्षण, जिसमें अन्तश्चक्षुओं द्वारा देखना या मनन करके सोपपत्तिक निष्कर्ष निकालना ही दर्शन का अभिधेय है। इस प्रकार के प्रकृष्ट ईक्षण के साधन और फल दोनों का नाम दर्शन है। जहाँ पर इन सिद्धान्तों का संकलन हो, उन ग्रन्थों का भी नाम दर्शन ही होगा, जैसे-न्याय दर्शन, वैशेषिक दर्शन मीमांसा दर्शन आदि-आदि।
 
दर्शन ग्रन्थों को '''दर्शनशास्त्र''' भी कहते हैं। यह [[शास्त्र]] शब्द ‘शासु अनुशिष्टौ’ से निष्पन्न होने के कारण दर्शन का अनुशासन या उपदेश करने के कारण ही दर्शन-शास्त्र कहलाने का अधिकारी है। दर्शन अर्थात् साक्षात्कृत धर्मा ऋषियों के उपदेशक ग्रन्थों का नाम ही दर्शन शास्त्र है।
 
== भारतीय दर्शन का प्रतिपाद्य विषय ==
दर्शनों का उपदेश वैयक्तिक जीवन के सम्मार्जन और परिष्करण के लिए ही अधिक उपयोगी है। आध्यात्मिक पवित्रता एवं उन्नयन, बिना दर्शनों को होना दुर्लभ है। दर्शन-शास्त्र ही हमें [[प्रमाण]] और तर्क के सहारे अन्धकार में दीपज्योति प्रदान करके हमारा मार्ग-दर्शन करने में समर्थ होता है। [[गीता]] के अनुसार '''किं कर्म किमकर्मेति कवयोऽप्यत्र मोहिता:''' (संसार में करणीय क्या है और अकरणीय क्या है ? इस विषय में विद्वान भी अच्छी तरह नहीं जान पाते।) परम लक्ष्य एवं पुरुषार्थ की प्राप्ति दार्शनिक ज्ञान से ही संभव है, अन्यथा नहीं।
 
दर्शन द्वारा विषयों को हम संक्षेप में दो वर्गों में रख सकते हैं। लौकिक और अलौकिक अथवा भौतिक और आध्यात्मिक। दर्शन या तो विस्तृत सृष्टि प्रपंच के विषय में सिद्धान्त या आत्मा के विषय में हमसे चर्चा करता है। इस प्रकार दर्शन के विषय जड़ और चेतन दोनों ही हैं। प्राचीन ऋग्वैदिक काल से ही दर्शनों के मूल तत्त्वों के विषय में कुछ न कुछ संकेत हमारे आर्ष साहित्य में मिलते हैं।
 
== भारतीय दर्शन की विकास यात्रा ==
वेदों में जो आधार तत्त्व बीज रूप में बिखरे दिखाई पड़ते थे, वे [[ब्राह्मण|ब्राह्मणों]] में आकर कुछ उभरे; परन्तु वहाँ कर्मकाण्ड की लताओं के प्रतानों में फँसकर बहुत अधिक नहीं बढ़ पाये। [[अरण्यक|आरण्यकों]] में ये अंकुरित होकर उपनिषदों में खूब पल्लवित हुए। दर्शनों का विकास जो हमें [[उपनिषद|उपनिषदों]] में हमें दृष्टिगोचर होता है, आलोचकों ने उसका श्रीगणेश लगभग दौ सौ वर्ष ईसा पूर्व स्थिर किया है। [[महात्मा बुद्ध]] से यह प्राचीन हैं। इतना ही नहीं विद्वानों ने [[सांख्य]], [[योग]] और [[मीमांसा]] को भी बुद्ध से प्राचीन माना है। संभव है कि ये दर्शन वर्तमान रूप में उस समय न हों, तथापि वे किसी रूप में अवश्य विद्यमान थे। [[वैशेषिक]]दर्शन भी शायद बुद्ध से प्राचीन ही है; क्योंकि जैसा आज के युग में न्याय और वैशेषिक समान तन्त्र समझे जाते हैं, उसी प्रकार पहले पूर्व मीमांस और वैशेषिक समझे जाते थे। बौद्धदर्शन पद्धति का आविर्भाव ईसा से पूर्व दो सौ वर्ष माना जाता है, परन्तु [[जैन दर्शन]], [[बौद्ध दर्शन]] से भी प्राचीन ठहरता है। इसकी पुष्टि में यह प्रमाण दिया जाता है कि प्राचीन जैन दर्शनों में न तो बुद्ध दर्शन और न किसी हिन्दू दर्शन का ही खण्डन उपलब्ध होता है। [[महावीर स्वामी]], जो जैन सम्प्रदाय के प्रवर्तक माने जाते हैं, वे भी बुद्ध से प्राचीन थे। अतएव जैन दर्शन का बुद्ध दर्शन से प्राचीन होना युक्तियुक्त अनुमान है।
 
भारतीय दर्शनों का ऐतिहासिक क्रम निश्चित करना कठिन है। इन सब भिन्न-भिन्न दर्शनों का लगभग साथ ही साथ समान रूप से प्रादुर्भाव एवं विकास हुआ है। इधर-उधर तथा बीच में भी कई कड़ियाँ छिन्न-भिन्न हो गई हैं। अत: जो कुछ शेष है, उसी का आधार लेकर चलना है। इस क्रम में शुद्ध ऐतिहासिकता न होने पर भी क्रमिक विकास की श्रृंखला आदि से अन्त तक चलती रही है। इसलिए प्राय: विद्वानों ने इसी क्रम का अनुसरण किया है।
 
== भारतीय दर्शन का स्रोत ==
भारतीय दर्शन का आरंभ वेदों से होता है। "वेद" भारतीय धर्म, दर्शन, संस्कृति, साहित्य आदि सभी के मूल स्रोत हैं। आज भी धार्मिक और सांस्कृतिक कृत्यों के अवसर पर वेद-मंत्रों का गायन होता है। अनेक दर्शन-संप्रदाय वेदों को अपना आधार और प्रमाण मानते हैं। आधुनिक अर्थ में वेदों को हम दर्शन के ग्रंथ नहीं कह सकते। वे प्राचीन भारतवासियों के संगीतमय काव्य के संकलन है। उनमें उस समय के भारतीय जीवन के अनेक विषयों का समावेश है। वेदों के इन गीतों में अनेक प्रकार के दार्शनिक विचार भी मिलते हैं। चिंतन के इन्हीं बीजों से उत्तरकालीन दर्शनों की वनराजियाँ विकसित हुई हैं। अधिकांश भारतीय दर्शन वेदों को अपना आदिस्त्रोत मानते हैं। ये "आस्तिक दर्शन" कहलाते हैं। प्रसिद्ध षड्दर्शन इन्हीं के अंतर्गत हैं। जो दर्शनसंप्रदाय अपने को वैदिक परंपरा से स्वतंत्र मानते हैं वे भी कुछ सीमा तक वैदिक विचारधाराओं से प्रभावित हैं।
 
उपनिषदों का दर्शन आध्यात्मिक है। ब्रह्म की साधना ही उपनिषदों का मुख्य लक्ष्य है। ब्रह्म को आत्मा भी कहते हैं। "आत्मा" विषयजगत्, शरीर, इंद्रियों, मन, बुद्धि आदि सभी अवगम्य तत्वों स परे एक अनिर्वचनीय और अतींद्रिय तत्व है, जो चित्स्वरूप, अनंत और आनंदमय है। सभी परिच्छेदों से परे होने के कारण वह अनंत है। अपरिच्छन्न और एक होने के कारण आत्मा भेदमूलक जगत् में मनुष्यों के बीच आंतरिक अभेद और अद्वैत का आधार बन सकता है। आत्मा ही मनुष्य का वास्तविक स्वरूप है। उसका साक्षात्कार करके मनुष्य मन के समस्त बंधनों से मुक्त हो जाता है। अद्वैतभाव की पूर्णता के लिए आत्मा अथवा ब्रह्म से जड़ जगत् की उत्पत्ति कैसे होती है, इसकी व्याख्या के लिए माया की अनिर्वचनीय शक्ति की कल्पना की गई है। किंतु सृष्टिवाद की अपेक्षा आत्मिक अद्वैतभाव उपनिषदों के वेदांत का अधिक महत्वपूर्ण पक्ष है। यही अद्वैतभाव भारतीय संस्कृति में ओतप्रोत है। दर्शन के क्षेत्र में उपनिषदों का यह ब्रह्मवाद [[आदि शंकराचार्य]], [[रामानुजाचार्य]] आदि के उत्तरकालीन वेदांत मतों का आधार बना। वेदों का अंतिम भाग होने के कारण उपनिषदों को "वेदांत" भी कहते हैं। उपनिषदों का अभिमत ही आगे चलकर वेदांत का सिद्धांत और संप्रदायों का आधार बन गया। उपनिषदों की शैली सरल और गंभीर है। अनुभव के गंभीर तत्व अत्यंत सरल भाषा में उपनिषदों में व्यक्त हुए हैं। उनको समझने के लिए अनुभव का प्रकाश अपेक्षित है। ब्रह्म का अनुभव ही उपनिषदों का लक्ष्य है। वह अपनी साधना से ही प्राप्त होता है। गुरु का संपर्क उसमें अधिक सहायक होता है। तप, आचार आदि साधना की भूमिका बनाते हैं। कर्म आत्मिक अनुभव का साधक नहीं है। कर्म प्रधान वैदिक धर्म से उपनिषदों का यह मतभेद है। सन्यास, वैराग्य, योग, तप, त्याग आदि को उपनिषदों में बहुत महत्व दिया गया है। इनमें श्रमण परंपरा के कठोर सन्यासवाद की प्रेरणा का स्रोत दिखाई देता है। तपोवादी जैन और बौद्ध मत तथा गीता का कर्मयोग उपनिषदों की आध्यात्मिक भूमि में ही अंकुरित हुए हैं।
 
== हिन्दू दर्शन परंपरा ==
{{मुख्य|हिन्दू दर्शन}}
[[हिन्दू धर्म]] में दर्शन अत्यन्त प्राचीन परम्परा रही है। वैदिक दर्शनों में '''षड्दर्शन''' अधिक प्रसिद्ध और प्राचीन हैं। [[गीता]] का [[कर्मवाद]] भी इनके समकालीन है। षडदर्शनों को 'आस्तिक दर्शन' कहा जाता है। वे [[वेद]] की सत्ता को मानते हैं। हिन्दू दार्शनिक परम्परा में विभिन्न प्रकार के आस्तिक दर्शनों के अलावा अनीश्वरवादी और भौतिकवादी दार्शनिक परम्पराएँ भी विद्यमान रहीं हैं।
 
=== छह दर्शन ===
==== [[न्याय दर्शन]] ====
महर्षि गौतम रचित इस दर्शन में पदार्थों के तत्वज्ञान से मोक्ष प्राप्ति का वर्णन है। पदार्थों के तत्वज्ञान से मिथ्या ज्ञान की निवृत्ति होती है। फिर अशुभ कर्मो में प्रवृत्त न होना, मोह से मुक्ति एवं दुखों से निवृत्ति होती है। इसमें परमात्मा को सृष्टिकर्ता, निराकार, सर्वव्यापक और जीवात्मा को शरीर से अलग एवं प्रकृति को अचेतन तथा सृष्टि का उपादान कारण माना गया है और स्पष्ट रूप से त्रैतवाद का प्रतिपादन किया गया है। इसके अलावा इसमें न्याय की परिभाषा के अनुसार न्याय करने की पद्धति तथा उसमें जय-पराजय के कारणों का स्पष्ट निर्देश दिया गया है।
आगे चलकर वेदान्त के अनेकानेक सम्प्रदाय (अद्वैत, द्वैत, द्वैताद्वैत, विशिष्टाद्वैत आदि ) बने।
 
=== अन्य हिन्दू दर्शन ===
षड दर्शनों के अलावा लोकायत तथा शैव एवं शाक्त दर्शन भी हिन्दू दर्शन के अभिन्न अंग हैं।
 
==== चार्वाक दर्शन ====
{{मुख्य|लोकायत}}
 
वेदविरोधी होने के कारण नास्तिक संप्रदायों में [[चार्वाक]] मत का भी नाम लिया जाता है। [[भौतिकवाद|भौतिकवादी]] होने के कारण यह आदर न पा सका। इसका इतिहास और साहित्य भी उपलब्ध नहीं है। "बृहस्पति सूत्र" के नाम से एक चार्वाक ग्रंथ के उद्धरण अन्य दर्शन ग्रंथों में मिलते हैं। चार्वाक मत एक प्रकार का यथार्थवाद और भौतिकवाद है। इसके अनुसार केवल प्रत्यक्ष ही प्रमाण है। अनुमान और आगम संदिग्ध होते हैं। प्रत्यक्ष पर आश्रित भौतिक जगत् ही सत्य है। आत्मा, ईश्वर, स्वर्ग आदि सब कल्पित हैं। भूतों के संयोग से देह में चेतना उत्पन्न होती है। देह के साथ मरण में उसका अंत हो जाता है। आत्मा नित्य नहीं है। उसका पुनर्जन्म नहीं होता। जीवनकाल में यथासंभव सुख की साधना करना ही जीवन का लक्ष्य होना चाहिए।
 
==== शैव और शाक्त संप्रदाय ====
''[[पाशुपत]]'' देखें
 
== अवैदिक दर्शनों का विकास ==
उपनिषदों के अध्यात्मवाद तथा तपोवाद में ही वैदिक कर्मकांड के विरुद्ध एक प्रकट क्रांति का रूप ग्रहण कर लिया। उपनिषद काल में एक ओर बौद्ध और जैन धर्मों की अवैदिक परंपराओं का आविर्भाव हुआ तथा दूसरी ओर वैदिक दर्शनों का उदय हुआ। ईसा के जन्म के पूर्व और बाद की एक दो शताब्दियों में अनेक दर्शनों की समानांतर धाराएँ भारतीय विचारभूमि पर प्रवाहित होने लगीं। बौद्ध और जैन दर्शनों की धाराएँ भी इनमें सम्मिलित हैं।
 
[[जैन धर्म]] का आरंभ [[बौद्ध धर्म]] से पहले हुआ। [[महावीर स्वामी]] के पूर्व 23 जैन तीर्थकर हो चुके थे। महावीर स्वमी ने जैन धर्म का प्रचार किया। बौद्ध धर्म के प्रवर्तक [[गौतम बुद्ध]] उनके समकालीन थे। दोनों का समय ई.पू. छठी शताब्दी माना जाता है। इन्होंने [[वेद|वेदों]] से स्वतंत्र एक नवीन धार्मिक परंपरा का प्रवर्तन किया। वेदों को न मानने के कारण जैन और बौद्ध दर्शनों को "नास्तिक दर्शन" भी कहते हैं। इनका मौलिक साहित्य क्रमश: महावीर और बुद्ध के उपदेशों के रूप मे है जो क्रमश: [[प्राकृत]] और [[पालि]] की लोकभाषाओं में मिलता है तथा जिसका संग्रह इन महापुरुषों के निर्वाण के बाद कई संगीतियों में उनके अनुयायियों के परामर्श के द्वारा हुआ। बुद्ध और महावीर दोनों हिमालय प्रदेश के राजकुमार थे। युवावय में ही [[सन्यास]] लेकर उन्होने अपने धर्मो का उपदेश और प्रचार किया। उनका यह सन्यास उपनिषदों की परंपरा से प्रेरित है। जैन और बौद्ध धर्मों में तप और त्याग की महिमा भी उपनिषदों के दशर्न के अनुकूल है। [[अहिंसा]] और आचार की महत्ता तथा जातिभेद का खंडन इन धर्मों की विशेषता है। अहिंसा के बीज भी उपनिषदों में विद्यमान हैं। फिर भी अहिंसा की ध्वजा को धर्म के आकाश में फहराने का श्रेय जैन और बौद्ध संप्रदायों को देना होगा।
 
=== जैन दर्शन ===
{{मुख्य|जैन दर्शन}}
[[महावीर स्वामी]] के उपदेशों से लेकर जैन धर्म की परंपरा आज तक चल रही है। महावीर स्वामी के उपदेश 41 सूत्रों में संकलित हैं, जो जैनागमों में मिलते हैं। [[उमास्वाति]] का "[[तत्वार्थाधिगम सूत्र]]" (300 ई.) जैन दर्शन का प्राचीन और प्रामाणिक शास्त्र है। सिद्धसेन दिवाकर (500 ई.), हरिभद्र (900 ई.), मेरुतुंग (14वीं शताब्दी), आदि जैन दर्शन के प्रसिद्ध आचार्य हैं। सिद्धांत की दृष्टि से जैन दर्शन एक ओर अध्यात्मवादी तथा दसरी ओर भौतिकवादी है। वह आत्मा और पुद्गल (भौतिक तत्व) दोनों को मानता है। जैन मत में आत्मा प्रकाश के समान व्यापक और विस्तारशील है। पुनर्जन्म में नवीन शरीर के अनुसार आत्मा का संकोच और विस्तार होता है। स्वरूप से वह चैतन्य स्वरूप और आनंदमय है। वह मन और इंद्रियों के माध्यम के बिना परोक्ष विषयों के ज्ञान में समर्थ है। इस अलौकिक ज्ञान के तीन रूप हैं - अवधिज्ञान, मन:पर्याय और केवलज्ञान। पूर्ण ज्ञान को केवलज्ञान कहते हैं। यह निर्वाण की अवस्था में प्राप्त हाता है। यह सब प्रकार से वस्तुओं के समस्त धर्मों का ज्ञान है। यही ज्ञान "प्रमाण" है। किसी अपेक्षा से वस्तु के एक धर्म का ज्ञान "नय" कहलाता है। "नय" कई प्रकार के होते हैं। ज्ञान की सापेक्षता जैन दर्शन का सिद्धांत है। यह सापेक्षता मानवीय विचारों में उदारता और सहिष्णुता को संभव बनाती है। सभी विचार और विश्वास आंशिक सत्य के अधिकारी बन जाते हैं। पूर्ण सत्य का आग्रह अनुचित है। वह निर्वाण में ही प्राप्त हो सकता है। निर्वाण अत्मा का कैवल्य है। कर्म के प्रभाव से पुद्गल की गति आत्मा के प्रकाश को आच्छादित करती है। यह "आस्रव" कहलाता है। यही आत्मा का बंधन है। तप, त्याग, और सदाचार से इस गति का अवरोध "संवर" तथा संचित कर्मपुद्गल का क्षय "निर्जरा" कहलाता है। इसका अंत "निर्वाण" में होता है। निर्वाण में आत्मा का अनंत ज्ञान और अनंत आनंद प्रकाशित होता है।
 
=== बौद्ध दर्शन ===
{{मुख्य|बौद्ध दर्शन}}
 
[[वसुबंधु]] (400 ई.), [[कुमारलात]] (200 ई.) मैत्रेय (300 ई.) और [[नागार्जुन (प्राचीन दार्शनिक)|नागार्जुन]] (200 ई.) इन दर्शनों के प्रमुख आचार्य थे। वैभाषिक मत बाह्य वस्तुओं की सत्ता तथा स्वलक्षणों के रूप में उनका प्रत्यक्ष मानता है। अत: उसे बाह्य प्रत्यक्षवाद अथवा "सर्वास्तित्ववाद" कहते हैं। सैत्रांतिक मत के अनुसार पदार्थों का प्रत्यक्ष नहीं, अनुमान होता है। अत: उसे बाह्यानुमेयवाद कहते हैं। योगाचार मत के अनुसार बाह्य पदार्थों की सत्ता नहीं। हमे जो कुछ दिखाई देता है वह विज्ञान मात्र है। योगाचार मत विज्ञानवाद कहलाता है। माध्यमिक मत के अनुसार विज्ञान भी सत्य नहीं है। सब कुछ शून्य है। शून्य का अर्थ निरस्वभाव, नि:स्वरूप अथवा अनिर्वचनीय है। शून्यवाद का यह शून्य वेदांत के ब्रह्म के बहुत निकट आ जाता है।
 
== इन्हें भी देखें ==
* [[भारतीय तर्कशास्त्र]]
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
* [http://www.bhartiyadarshan.com हमारा जीवन दर्शन]
* [http://books.google.co.in/books?id=iM8lQEAjzXoC&printsec=frontcover#v=onepage&q=&f=false भारतीय दर्शन] (गूगल पुस्तक; लेखिका - शोभा निगम)
* [http://vimidarshan.wordpress.com/2009/02/15/17shatdarshan/ षड्दर्शन]
* [http://www.slideshare.net/Sanjayakumar/darshan-siddhant भारतीय वैदिक दर्शन] (आनलाइन पुस्तक)
* [http://books.google.co.in/books?id=wGPWZMm5DAsC&pg=PT318&lpg=PT318&dq=%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A5%81%E0%A4%9A%E0%A4%BF&source=bl&ots=KKzPIVeX42&sig=d0ZKiRyFsNDS8qQGCJ8_MXUFNys&hl=en&ei=jl3LStj6Hoj-sQPfudyNAQ&sa=X&oi=book_result&ct=result&resnum=6#v=onepage&q=%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A5%81%E0%A4%9A%E0%A4%BF&f=false भारतीय दर्शन - आलोचन एवं अनुशीलन] (गूगल पुस्तक; लेखक - चन्द्रधर शर्मा)
* [http://www.mantra.org.in/Yoga/myweb/indian_philosoph_Hind.htm भारतीय दर्शन] (भारत विद्या)
* [http://hindi.webdunia.com/religion/religion/article/0901/22/1090122015_1.htm नास्तिक धर्म और दर्शन] (वेबदुनिया)
* [http://rachanakar.blogspot.com/2009/10/blog-post_1347.html प्रोफ़ेसर महावीर सरन जैन का आलेख : मध्य युगीन संतों का निर्गुण-भक्ति-काव्य : कुछ प्रश्न]
* [http://books.google.co.in/books?id=AINbPp3HSqgC&pg=PA104&lpg=PA104&dq=Indica+%26+greece&source=bl&ots=8gH0Q0kxTn&sig=APYQjdxJNikQB07KSzJDV2qsUWg&hl=en&ei=qFjLSoi9DIWAsgPT8pScAQ&sa=X&oi=book_result&ct=result&resnum=10#v=onepage&q=&f=false Encyclopaedia Indica: India, Pakistan, Bangladesh, Volume 20] edited by Shyam Singh Shashi
* [http://gudh-vidhya.blogspot.com/search/label/भारतीय दर्शन और योग भारतीय दर्शन और योग] (गूढ़ विद्या, हिन्दी ब्लाग)
* [http://books.google.co.in/books?id=e0LHkoVc3fMC&printsec=frontcover#v=onepage&q=&f=false धर्मदर्शन की रूपरेखा] (गूगल पुस्तक; लेखक - हरेन्द्र प्रसाद सिन्हा)
* [http://books.google.co.in/books?id=qitkuuGsT4cC&printsec=frontcover#v=onepage&q=&f=false भारतीय दर्शन - सरल परिचय] (गूगल पुस्तक ; लेखक - देवी प्रसाद चट्टोपाध्याय)
* [http://books.google.co.in/books?id=V-y-Yxm5B4gC&printsec=frontcover#v=onepage&q&f=false अनहद] (गूगल पुस्तक ; लेखक - कैलाश वाजपेयी) - इसमें भारतीय साहित्य एवं दर्शन को सरल तरीके से समझाया गया है।
* [http://books.google.co.in/books?id=lrAyj17GDM4C&printsec=frontcover#v=onepage&q&f=false Encyclopedia of Indian philosophies: Bibliography] (Google book ; By Karl H. Potter)
* [http://books.google.co.in/books?id=iF7FaVeDMRYC&printsec=frontcover#v=onepage&q&f=false A history of Indian philosophy, Volume 2] ( Google book By Surendranath Dasgupta)
* [http://books.google.co.in/books?id=avYkrkSmImcC&printsec=frontcover#v=onepage&q&f=false A survey of Hinduism] (Google book By Klaus K. Klostermaier)
 
{{भारतीय दर्शन}}
[[en:Indian philosophy]]
[[fa:فلسفه هندی]]
[[fi:Intialainen filosofia]]
[[fr:Philosophie indienne]]
[[ko:인도 철학]]
[[it:Filosofia indiana]]
[[he:פילוסופיה הודית]]
[[hu:Ind filozófia]]
[[kn:ಹಿಂದೂ ಸಿದ್ಧಾಂತ]]
[[it:Filosofia indiana]]
[[ja:インド哲学]]
[[kaa:Hindistan filosofiyası]]
[[kk:Үнді пәлсапасы]]
[[kn:ಹಿಂದೂ ಸಿದ್ಧಾಂತ]]
[[ko:인도 철학]]
[[lt:Indijos filosofija]]
[[hu:Ind filozófia]]
[[ml:ഭാരതീയ തത്ത്വചിന്ത]]
[[nl:Indische filosofie]]
[[ja:インド哲学]]
[[pl:Filozofia indyjska]]
[[kaa:Hindistan filosofiyası]]
[[ru:Индийская философия]]
[[sk:Indická filozofia]]
[[fi:Intialainen filosofia]]
[[sv:Indisk filosofi]]
[[ta:இந்திய மெய்யியல்]]
74,334

सम्पादन

नेविगेशन मेन्यू