"पद्मगुप्त" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
1 बैट् नीकाले गए ,  8 वर्ष पहले
छो
Bot: अंगराग परिवर्तन
(नया पृष्ठ: '''पद्मगुप्त''' 'नवसाहसांकचरित' नामक महाकाव्य के रचयिता। कीथ के अ...)
 
छो (Bot: अंगराग परिवर्तन)
'''पद्मगुप्त''' 'नवसाहसांकचरित' नामक [[महाकाव्य]] के रचयिता। कीथ के अनुसार इनका समय १००५ ई. के लगभग होना चाहिए।
 
नवसाहसांकचरित ऐतिहासिक काव्य है। इसमें काल्पनिक राजकुमारी शशिप्रभा के प्रणय की कथा स्पष्ट रूप से वर्णित है परंतु यह [[मालवा]] के राजा सिंधुराज नवसाहसांक के चरित का भी वर्णन [[श्लेष]] के द्वारा उपस्थित करता है। जैसा प्राय: [[संस्कृत]] इतिहास काव्यों में देखा जाता है- उनमें प्रामाणिक इतिहास कम, चरितनायक के चरित का अतिरंजित वर्णन अधिक होता है- वैसा ही इस काव्य में भी हुआ है। कवि का उपनाम 'परिमल' था। [[उद्गाता छंद]] के उपयोग में इनकी विशेष कुशलता प्राप्त थी।
74,334

सम्पादन

दिक्चालन सूची