"असमिया भाषा" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
13 बैट्स् जोड़े गए ,  8 वर्ष पहले
छो
Bot: अंगराग परिवर्तन
छो (Bot: अंगराग परिवर्तन)
क्षेत्रीय विस्तार की दृष्टि से असमिया के कई उपरूप मिलते हैं। इनमें से दो मुख्य हैं - पूर्वी रूप और पश्चिमी रूप। साहित्यिक प्रयोग की दृष्टि से पूर्वी रूप को ही मानक माना जाता है। पूर्वी की अपेक्षा पश्चिमी रूप में बोलीगत विभिन्नताएँ अधिक हैं। असमिया के इन दो मुख्य रूपों में ध्वनि, व्याकरण तथा शब्दसमूह, इन तीनों ही दृष्टियों से अंतर मिलते हैं। असमिया के शब्दसमूह में संस्कृत तत्सम, तद्भव तथा देशज के अतिरिक्त विदेशी भाषाओं के शब्द भी मिलते हैं। अनार्य भाषापरिवारों से गृहीत शब्दों की संख्या भी कम नहीं है। भाषा में सामान्यत: तद्भव शब्दों की प्रधानता है। हिंदी उर्दू के माध्यम से फारसी, अरबी तथा पुर्तगाली और कुछ अन्य यूरोपीय भाषाओं के भी शब्द आ गए हैं।
 
== शब्दसमूह ==
भारतीय आर्यभाषाओं की शृंखला में पूर्वी सीमा पर स्थित होने के कारण असमिया कई अनार्य भाषापरिवारों से घिरी हुई है। इस स्तर पर सीमावर्ती भाषा होने के कारण उसके शब्दसमूह में अनार्य भाषाओं के कई स्रोतों के लिए हुए शब्द मिलते हैं। इन स्रोतों में से तीन अपेक्षाकृत अधिक मुख्य हैं :
 
असमिया की पारंपरिक कविता उच्चवर्ग तक ही सीमित थी। [[भर्तृदेव]] (१५५८-१६३८) ने असमिया गद्य साहित्य को सुगठित रूप प्रदान किया। [[दामोदर देव]] ने प्रमुख जीवनियाँ लिखीं। [[पुरुषोत्तम ठाकुर]] ने [[व्याकरण]] पर काम किया। अठारहवी शती के तीन दशक तक साहित्य में विशेष परिवर्तन दिखाई नहीं दिए। उसके बाद चालीस वर्षों तक असमिया साहित्य पर [[बांग्ला]] का वर्चस्व बना रहा। असमिया को जीवन प्रदान करने में [[चंद्र कुमार अग्रवाल]] (१८५८-१९३८), [[लक्ष्मीनाथ बेजबरुआ]] (१८६७-१८३८), व [[हेमचंद्र गोस्वामी]] (१८७२-१९२८) का योगदान रहा। असमिया में छायावादी आंदोलन छेड़ने वाली मासिक पत्रिका [[जोनाकी]] का प्रारंभ इन्हीं लोगों ने किया था। उन्नीसवीं शताब्दी के उपन्यासकार [[पद्मनाभ गोहेन बरुआ]] और [[रजनीकंत बार्दोलोई]] ने ऐतिहासिक उपन्यास लिखे। सामाजिक उपन्यास के क्षेत्र में [[देवाचंद्र तालुकदार]] व [[बीना बरुआ]] का नाम प्रमुखता से आता है। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद [[बिरेन्द्र कुमार भट्टाचार्य]] को [[मृत्युंजय (उपन्यास)|मृत्यंजय]] उपन्यास के लिए [[ज्ञानपीठ पुरस्कार]] से सम्मानित किया गया। इस भाषा में क्षेत्रीय व जीवनी रूप में भी बहुत से उपन्यास लिखे गए हैं। ४०वे व ५०वें दशक की कविताएँ व गद्य मार्क्सवादी विचारधारा से भी प्रभावित दिखाई देती है।
 
== यह भी देखें ==
* [[असम]]
* [[भारत की भाषाएँ]]
* [[भाषाई परिवार]]
* [[असमिया लिपि]]
* [[असमिया साहित्य]]
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
* [http://www.anukriti.net/dicbooks/westeranAssamee/index.html पश्चिम असमिया शब्दकोश]
* [http://www.ciil-ebooks.net/html/bbjassamese/coverpage.html भारतीय भाषा ज्योति: असमिया] —हिंदी के माध्यम से असमिया सिखाने की किताब
 
{{साँचा:विश्व की प्रमुख भाषाएं}}
74,334

सम्पादन

दिक्चालन सूची