"भट्टिकाव्य" के अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
110 बैट्स् जोड़े गए ,  9 वर्ष पहले
==रचयिता एवं रचनाकाल==
स्वयं प्रणेता के अनुसार भट्टिकाव्य की रचना गुर्जर देश के अंतर्गत बलभी नगर में हुई। भट्टि कवि का नाम "भर्तृ" शब्द का अपभ्रंश रूप है। कतिपय समीक्षक कवि का पूरा नाम भर्तृहरि मानते हैं, परंतु यह भर्तृहरि निश्चित ही शतकत्रय के निर्माता अथवा वाक्यपदीय के प्रणेता [[भर्तृहरि]] से भिन्न हैं। भट्टि उपनाम भर्तृहरि कवि वलभीनरेश श्रीधर सेन से संबंधित है। महाकवि भट्टि का समय ईसवी छठी शताब्दी का उत्तरार्ध सर्वसम्मत है। अलंकार वर्ग में निदर्शित उदाहरणों से स्पष्ट प्रतीत होता है कि भट्टि और [[भामह]] एक ही परंपरा के अनुयायी हैं।
 
==इन्हें भी देखें==
*[[महाभाष्य]]
*[[वाक्यपदीय]]
 
== बाहरी कड़ियाँ ==

दिक्चालन सूची