"विनय मजुमदार" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
1,113 बैट्स् जोड़े गए ,  9 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
'''विनय मजुमदार''' ( १७ सितम्बर १९३४ -- ११ दिसम्बर २००६ ) बर्मा में पैदा हुये थे। [[बांग्ला]] साहित्य के भुखी पीढी आन्दोलन के एक प्रमुख कवि हैं। [[जीवनानंद दास]] के बाद के [[बांग्ला साहित्य]] में उनको सबसे ज्यादा महत्व दिया जाता है। २००५ में उनको '''हासपाताले लेखा कवितागौच्चो''' के लिये साहित्य अकादेमि पुरस्कार से सन्मानित किया गया था। उस से पहले उन्हे रबीन्द्र पुरस्कार, सुधीन्द्रनाथा दत्ता पुरस्कार एवम कृत्तिवास पुरस्कार दिये गये थे। १९८०-१९९० के समयकाल में वह मानसिक सन्तुलन खो बैठे थे। तब उनहोने कविता किखना त्याग दिया था। चर बार आत्महत्या कि कोशिश की। मित्रों के सहायता से कोलकाता से बाहर ठाकुरनगर गांव जा कर ग्रामीण लोगों के बीच रहने लगे एवम फिर से लिखना शुरु किया। वह इनजिनियरिण्ङ के पण्डित थे एवम गणित में महिर थे। कविता में भी वे गणित का प्रयोग किया क्रते थे। रशियन भाषा से गणित के बहुत सरे किताबें अनुवाद किये थे।
==कृतियां==
==सन्दर्भ==
118

सम्पादन

दिक्चालन सूची