Kkpathak.ias के सदस्य योगदान

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
योगदान खोजेंविस्तार करेंछोटा करें
⧼contribs-top⧽
⧼contribs-date⧽

13 मई 2020

22 अप्रैल 2020

30 अक्टूबर 2019

29 अगस्त 2019

24 अगस्त 2019

23 अगस्त 2019

  • 18:5718:57, 23 अगस्त 2019 अन्तर इतिहास +2,025 भगवान''भगवान''' गुण वाचक शब्द है जिसका अर्थ गुणवान या ऐश्वर्यशाली होता है। यह "भग" धातु से बना है,भग के ६ गुण माने जाते हैं:- १-ऐश्वर्य २-सौम्यता ३-स्मृति ४-यश ५-विवेक ६-श्रद्धा इस परिभाषा के अनुसार जिसके पास ये ६ गुण है, वह भगवान है। परंतु भगवान् मूलतः पालि भाषा का पद था, जिसने सब बंधन भंग कर दिए उसके लिए. संस्कृत में बाद में इसे ईश्वर के अर्थ में यथावत् अपना लिया गया। वेदों में "भग" शब्द का प्रयोग है, परंतु अर्थ भिन्न है। मुंडकोपनिषद् में भगवो शब्द का प्रयोग है, परंतु अर्थ वहाँ भी भिन्न है। श्... टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन

6 जुलाई 2017

2 जुलाई 2017

26 जून 2017

25 जून 2017

11 जून 2017

7 अप्रैल 2017

27 मार्च 2017

20 मार्च 2017

18 फ़रवरी 2017

14 फ़रवरी 2017

11 फ़रवरी 2017

28 जनवरी 2017

6 जनवरी 2017

30 दिसम्बर 2016