सदस्य योगदान

Jump to navigation Jump to search
योगदान के लिये खोजविस्तार करेंछोटा करें
⧼-contribs-top⧽
⧼-contribs-date⧽

  • 07:35, 15 सितंबर 2019 अन्तर इतिहास +5,201 छो द्रौपदीउनके यज्ञ से प्रसन्न हो कर अग्निदेव ने उन्हें एक ऐसा पुत्र दिया जो सम्पूर्ण आयुध एवं कवच कुण्डल से युक्त था. उसके पश्चात् उस यज्ञ कुण्ड से एक कन्या उत्पन्न हुई जिसके नेत्र खिले हुये कमल के समान थे, भौहें चन्द्रमा के समान वक्र थीं तथा उसका वर्ण श्यामल था. उसके उत्पन्न होते ही एक आकाशवाणी हुई कि इस बालिका का जन्म कौरवों के विनाश के हेतु हुआ है… बालक का नाम धृष्टद्युम्न एवं बालिका का नाम कृष्णा रखा गया जो की राजा द्रुपद की बेटी होने के कारण द्रौपदी कहलाई. वर्तमान टैग: यथादृश्य संपादिका PHP7