वियना सम्मेलन (1985)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ओजोन परत के संरक्षण के लिए वियना कन्वेंशन
हस्ताक्षरित
- स्थान
22 मार्च 1985
वियना
प्रभावी
- शर्तें
22 सितम्बर 1988
20 राज्यों द्वारा अनुसमर्थन
हस्ताक्षरी 28[1]
डिपॉज़ीटरी संयुक्त राष्ट्र के महासचिव
भाषाएं अरबी, चीनी, अंग्रेजी, फ्रेंच, रूसी और स्पेनिश

वियना संधि (कन्वेंशन) यह ओज़ोन परत के संरक्षण के लिए एक बहुपक्षीय पर्यावरण समझौता है। इस पर 1985 के वियना सम्मेलन में सहमति बनी और 1988 में यह लागू किया गया। 196 देशों (सभी संयुक्त राष्ट्र के सदस्यों के साथ-साथ ही होली सी, निउए और कुक द्वीपसमूह) के साथ-साथ यूरोपीय संघों द्वारा इसे मंजूर किया जा चुका है।

वियना संधि, ओजोन परत की रक्षा के लिए अंतरराष्ट्रीय प्रयासों के लिए एक ढांचे के रूप में कार्य करता है। हालांकि इसमें सीएफसी के इस्तेमाल के लिए कानूनी रूप से बाध्यकारी न्यूनता के लक्ष्य शामिल नहीं हैं, ओज़ोन परत रिक्तीकरण का मुख्य कारण रासायनिक कारक हैं। उपरोक्त बातें मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल में रखी गयीं हैं।

पृष्ठभूमि[संपादित करें]

1970 के दौरान, अनुसंधान ने संकेत दिया कि मानव निर्मित क्लोरोफ्लोरोकार्बन (सीएफसी) वायुमंडल में ओजोन अणुओं को कम और परिवर्तित करते हैं।[2] सीएफसी, कार्बन, फ्लोरीन और क्लोरीन से बने स्थिर अणु होते हैं जिनका उपयोग रेफ्रिजरेटर जैसे उत्पादों में प्रमुखता से किया जाता था। ओजोन ह्रास से जुड़े खतरों ने इस मुद्दे को वैश्विक जलवायु मुद्दों में सबसे आगे कर दिया और विश्व मौसम विज्ञान संगठन और संयुक्त राष्ट्र जैसे संगठनों के माध्यम से समर्थन प्राप्त की। वियना कन्वेंशन 1985 के वियना सम्मेलन में सहमत हुआ और 1988 में लागू हुआ। वियना कन्वेंशन ने मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल के रूप में नियामक उपायों को बनाने के लिए आवश्यक रूपरेखा प्रदान की।[3]

सार्वभौमिकता के संदर्भ में, यह अब तक की सबसे सफल संधियों में से एक है, 197 राज्यों (सभी संयुक्त राष्ट्र के सदस्यों के साथ-साथ होली सी, नीयू और कुक आइलैंड्स) और यूरोपीय संघ द्वारा भी इसकी अभिपुष्टि की गई।[1] बाध्यकारी समझौता नहीं करते हुए, यह ओजोन परत की रक्षा के लिए अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों के लिए एक रूपरेखा प्रदान करता है; हालांकि, इसमें सीएफसी के उपयोग के लिए कानूनी रूप से बाध्यकारी कमी लक्ष्य शामिल नहीं किया गया, जोकि ओजोन ह्रास का कारण बनने वाले मुख्य रासायनिक तत्व हैं।

प्रावधान[संपादित करें]

संधि के प्रावधानों में ओजोन परत पर प्रभावों के ज्ञान को बढ़ावा देने के लिए जलवायु और वायुमंडलीय अनुसंधान का अंतर्राष्ट्रीय साझाकरण शामिल है।[1] इसके अलावा, संधि समाप्त हो चुकी ओजोन के हानिकारक प्रभावों और ओजोन परत को प्रभावित करने वाले हानिकारक पदार्थों के उत्पादन को नियंत्रित करने वाली नीतियों के प्रचार का आकलन करने के लिए अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों को अपनाने के लिए बुलाती है।[1] वियना कन्वेंशन के परिणामों में से एक ओजोन अनुसंधान प्रबंधकों की बैठक के रूप में जाना जाने वाला सरकारी वायुमंडलीय विशेषज्ञों के एक पैनल का निर्माण था, जो ओजोन की कमी और जलवायु परिवर्तन अनुसंधान का आकलन करता है और सम्मेलन (सीओपी) के लिए एक रिपोर्ट तैयार करता है।[4] इसके अलावा, सीओपी सीएफसी उत्सर्जन को सीमित करने के उद्देश्य से नई नीतियों का सुझाव देने के लिए मूल्यांकन किए गए डेटा का उपयोग करता है।

वर्तमान में, सीओपी हर तीन साल में बैठक करता है और मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल के तहत एक समान बैठक के समय के साथ समन्वय करता है।[5] ओजोन सचिवालय सीओपी के प्रशासक के रूप में कार्य करता है, पार्टियों के मॉन्ट्रियल मीटिंग (एमओपी), और ओपन-एंडेड वर्किंग ग्रुप जो सम्मेलन के तहत कार्यों को सुविधाजनक बनाने में मदद करते हैं।[5] एक बहुपक्षीय कोष विकासशील राष्ट्रों को कन्वेंशन के तहत दिशानिर्देशों का उपयोग करते हुए ओजोन-घटते रसायनों से संक्रमण की सहायता के लिए मौजूद है, जिसे एक बहुपक्षीय निधि सचिवालय द्वारा प्रशासित किया जाता है। बहुपक्षीय कोष में लगभग 150 देशों में हजारों परियोजनाएं कार्यान्वित हैं, जो लगभग 250,000 टन ओजोन-क्षयकारी रसायनों के उपयोग को रोकती हैं।[5]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Vienna Convention for the Protection of the Ozone Layer". United Nations Treaty Series. अभिगमन तिथि 17 January 2012.
  2. Jachtenfuchs, M. (1990). "The European Community and the Protection of the Ozone Layer". JCMS: Journal of Common Market Studies (अंग्रेज़ी में). 28 (3): 261–277. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0021-9886. डीओआइ:10.1111/j.1468-5965.1990.tb00367.x.
  3. Slaper, H.; Velders, G. J. M.; Daniel, J. S.; de Gruijl, F. R.; van der Leun, J. C. (1996). "Estimates of ozone depletion and skin cancer incidence to examine the Vienna Convention achievements" (PDF). Nature (अंग्रेज़ी में). 384 (6606): 256–258. PMID 8918873. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0028-0836. डीओआइ:10.1038/384256a0.
  4. Wettestad, J. (2001). Environmental Regime Effectiveness: Confronting Theory with Evidence. MIT Press. पृ॰ 150. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780262263726.
  5. Wexler, P. (2012). Chemicals, environment, health : a global management perspective. CRC Press. OCLC 747903390. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781420084696.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]