विमुखता ( ग्रह )

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Positional astronomy.svg

स्थितीय खगोल विज्ञान में, दो खगोलीय पिंडों को विमुखता (Opposition) में होना कहा जाता है, जब किसी दिए गए स्थान (आमतौर पर पृथ्वी) से देखने पर, वे आकाश के विपरीत पक्ष पर होते है | एक ग्रह (या क्षुद्रग्रह या धूमकेतु) "विमुखता में" होना कहलाता है, जब पृथ्वी से देखने पर, यह सूर्य से विपरीत में होता है | विमुखता वरिष्ठ ग्रहों में ही होती है | विमुखता के लिए खगोलीय चिन्ह Opposition.png है |

विमुखता के दौरान एक ग्रह इस तरह नजर आता है :

  • यह लगभग सारी रात दिखाई देता है, सूर्यास्त के आसपास उदित, आधी रात के आसपास समापन और सूर्योदय के आसपास अस्त होता है |
  • अपनी कक्षा के इस बिंदु पर यह मोटे तौर पर पृथ्वी से सबसे नजदीक होता है, जो इसे बड़े से बड़ा और अपेक्षाकृत अधिक चमकदार दिखाई देने वाला बनाता है |
  • पृथ्वी से दिखने वाला आधा ग्रह तब पूरी तरह से प्रदीप्त होता है ("पूर्ण ग्रह") |
  • विमुखता प्रभाव से पिंडों के खुरदरी सतहों से परिलक्षित प्रकाश बढ़ जाता है |