विभिन्न स्रोतों से उत्पन्न बिजली के सापेक्ष मूल्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भू-तापीय ऊर्जा मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

आइसलैंड के नेसजावेलीर जीओथर्मल पॉवर स्टेशन से उठता भाप.

• • भू-तापीय ऊर्जा (जिसे जियोथर्मल पॉवर कहते हैं, ग्रीक धातु जियो से आया है, जिसका अर्थ है पृथ्वी और थर्मोस अर्थात ताप) वह ऊर्जा है जिसे पृथ्वी में संग्रहित ताप से निकाला जाता है। यह भू-तापीय ऊर्जा, ग्रह के मूल गठन से, खनिज के रेडियोधर्मी क्षय से और सतह पर अवशोषित सौर ऊर्जा से उत्पन्न होती है। पेलिओलिथिक काल से इसका प्रयोग स्नान के लिए और रोमन काल से स्थानों को गर्म करने के लिए किया जाता रहा है, लेकिन अब इसे बिजली उत्पन्न करने के लिए बेहतर रूप में जाना जाता है। दुनिया भर में, भू-तापीय संयंत्रों में यथा 2007, 10 गीगावाट बिजली उत्पन्न करने की क्षमता है और अभ्यास में यह बिजली की वैश्विक मांग का 0.3% की आपूर्ति करती है। 28 गीगावाट की एक अतिरिक्तभू-तापीय ताप क्षमता को जिला तापक, स्थान तापक, स्पा, औद्योगिक प्रक्रियाओं, नमक हटाने और कृषि अनुप्रयोगों के लिए स्थापित किया गया है। भू-तापीय ऊर्जा लागत प्रभावी, विश्वसनीय, टिकाऊ, संपोषणीय और पर्यावरण के अनुकूल है, लेकिन ऐतिहासिक रूप से यह प्लेट विवर्तनिक सीमाओं के निकट के क्षेत्रों तक सीमित रही है। हाल के तकनीकी विकासों ने व्यवहार्य संसाधनों की सीमाओं और आकार को नाटकीय रूप से विस्तार दिया है, विशेष रूप से गृह तापन जैसे अनुप्रयोगों के लिए और बड़े पैमाने पर दोहन की संभावनाओं को भी खोला है। भू-तापीय कुएं, ग्रीन हाउस गैसों को छोड़ते हैं जो धरती के भीतर गहरे फंसी होती है, लेकिन ये उत्सर्जन, ऊर्जा की प्रति यूनिट के हिसाब से जीवाश्म ईंधन की तुलना में बहुत कम हैं। परिणामस्वरूप, भू-तापीय ऊर्जा में वैश्विक गर्मी को कम अर्ने में मदद करने की क्षमता है यदि इन्हें जीवाश्म ईंधन के स्थान पर व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाए. पृथ्वी के भू-तापीय संसाधन, मानव की ऊर्जा की जरूरतों की आपूर्ति के लिए सिद्धांततः पर्याप्त से अधिक है, लेकिन उसके केवल एक बहुत छोटे से अंश को लाभदायक तरीके से दोहन किया जा सकता है। गहरे संसाधनों के लिए ड्रिलिंग और खोज में करोड़ों डॉलर लगता है और सफलता की गारंटी नहीं होती है। भू-तापीय ऊर्जा के भविष्य के दोहन के लिए पूर्वानुमान, प्रौद्योगिकी विकास, ऊर्जा की कीमत, सब्सिडी और ब्याज दरों के अनुमानों पर निर्भर करता है।