विभाण्डक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
विभाण्डक
Information
पुत्रऋष्यशृंग

विभाण्डक ऋषि (अंग्रेज़ी में Vibhandaka) महान भारतीय हिंदू संत या ऋषि कश्यप के वंश के ऋषि थे। ये रामायण भारतीय महाकाव्य में एक महान संत थे, उनके पुत्र ऋष्यशृंग ऋषि थे।

आश्रम[संपादित करें]

उनका आश्रम कर्नाटक में श्रृंगेरी के पास था।

हिंदू महाकाव्य महाभारत के वनपर्व की एक कहानी के अनुसार कौशिकी देवनादी नदी के क्षेत्र में विभांडक ऋषि का एक आश्रम था। कौशिकी देवनादी नदी की पहचान कुंवारी या क्वारी नदी के रूप में की जाती है। इसी महान संत के नाम पर भिंड शहर का नाम पड़ा है। विभाण्डका ऋषि का एक प्राचीन मंदिर अभी भी भिंड में स्थित है।

क्लासिक परमल रासो के अनुसार, राजा पृथ्वीराज चौहान ने सिरसागढ़ की लड़ाई में चंदेलों से लड़ने के लिए जाते समय विभाण्डका ऋषि के समाधि स्थल (स्मारक के लिए स्थान) पर घने जंगल में डेरा डाला और उनके सेनापति मलखान को हराया।

यह भी कहा जाता है कि पांडवों ने अपने निर्वासन के दौरान उनके आश्रम का दौरा किया था। यह स्थान अब पृथ्वीराज चौहान द्वारा निर्मित भगवान शिव के वन खंडेश्वर मंदिर का स्थान है।

अद्वैत मठ[संपादित करें]

अद्वैत वेदांत के अनुसार, आदि शंकर ने चार मठों मठ (संस्कृत: मठ) की स्थापना की, जिसका मुख्यालय पश्चिम में द्वारका, पूर्व में जगन्नाथ पुरी, दक्षिण में श्रृंगेरी और उत्तर में बद्रीकाश्रम में था। प्रत्येक मठ का नेतृत्व उनके चार मुख्य शिष्यों में से एक ने किया था, जो प्रत्येक वेदांत संप्रदाय को जारी रखते हैं।[1]

पांडे के अनुसार, इन मठों की स्थापना स्वयं शंकर ने नहीं की थी, बल्कि मूल रूप से विभादक और उनके पुत्र यंग द्वारा स्थापित आश्रम थे [2]शंकर ने द्वारका और श्रृंगेरी में आश्रमों को विरासत में मिला, और अंगवेरापुरा में आश्रम को बदरीकाश्रम में स्थानांतरित कर दिया, और अंगडेश में आश्रम को जगन्नाथ पुरी में स्थानांतरित कर दिया।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Sankara Acarya Biography - Monastic Tradition Archived 8 मई 2012 at the Wayback Machine
  2. Pandey 2000, पृ॰प॰ 4–5.
  3. Pandey 2000, पृ॰ 5.

स्रोत[संपादित करें]

  • Pandey, S.L. (2000), Pre-Sankara Advaita. In: Chattopadhyana (gen.ed.), "History of Science, Philosophy and Culture in Indian Civilization. Volume II Part 2: Advaita Vedanta", Delhi: Centre for Studies in Civilizations