विधि एवं अर्थशास्त्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

विधि एवं अर्थशास्त्र या विधि के अर्थशास्त्रीय विश्लेषण (economic analysis of law) के अन्तर्गत आर्थिक सिद्धान्तों का उपयोग करते हुए विधि का विश्लेषण किया जाता है और देखा जाता है कि कौन से कानून आर्थिक रूप से अधिक प्रभावी (दक्ष) हैं और कौन नहीं। विधि के अर्थशास्त्रीय विश्लेषण का आरम्भ शिकागो स्कूल ऑफ इकनॉमिक्स के विद्वानों ने किया था। कानून और अर्थशास्त्र की दो प्रमुख शाखाएँ हैं।[1] पहली शाखा विधि के सकारात्मक और प्रामाणिक विश्लेषण के लिए नवशास्त्रीय अर्थशास्त्र के तरीकों और सिद्धांतों के प्रयोग पर आधारित है।[2] दूसरी शाखा आर्थिक और राजनीतिक परिणामों पर व्यापक ध्यान देने के साथ कानून और कानूनी संस्थानों के एक संस्थागत विश्लेषण पर केंद्रित है। इस प्रकार कानून और अर्थशास्त्र की दूसरी शाखा राजनीतिक संस्थानों और शासन संस्थानों पर अधिक आम तौर पर काम करती है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. David Friedman (1987). "law and economics," The New Palgrave: A Dictionary of Economics, v. 3, p. 144.
  2. Ronald Coase (1996). "Law and Economics and A.W. Brian Simpson," Journal of Legal Studies, v. 25, p. 103-104.