विजय बहादुर पाठक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
विजय बहादुर पाठक
Vijay bahahdur pathak.jpg

कार्यकाल
11 जुलाई २०१६ से

कार्यकाल
मई २०१८

जन्म उत्तर प्रदेश, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
राजनीतिक दल भारतीय जनता पार्टी
जीवन संगी श्रीमती पी. पाठक
बच्चे 2 संतान
पेशा राजनीतिज्ञ
धर्म हिन्दु

विजय बहादुर पाठक उत्तर प्रदेश के एक भारतीय राजनेता हैं। वे सम्प्रति भारतीय जनता पार्टी के राज्य महासचिव के रूप में कार्यरत हैं। वह उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य हैं।

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

पाठक जी का जन्म मध्य वर्ग ब्राह्मण परिवार में हुआ था। वह एक राजनीतिक परिवार से जुड़ा हुआ है। वर्ष १९७४ में, उनके पिता श्री राधेश्याम पाठक जी ग्राम व पोस्ट बरसरा खालसा जिला आजमगढ़ के एक आरएसएस कार्यकर्ता थे) भारतीय जनसंघ के उम्मीदवार थे।

राजनीतिक जीवन[संपादित करें]

१९८६ में, पाठक आजमगढ़ शहर इकाई के भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष थे। १९८७ में, वह श्री दुर्गा जी ग्रेजुएट कॉलेज, चंदेश्वर आज़मगढ़ के छात्र संघ के अध्यक्ष चुने गए। १९८८ में, वह भारतीय जनता युवा मोर्चा उत्तर प्रदेश की राज्य कार्यकारिणी समिति के सदस्य थे।१९८९ में, उन्हें श्री कलराज मिश्रा जी के राजनीतिक सचिव बनाया गया था। १९९० में, उन्हें राज्य सचिव भारतीय जनता युवा मोर्चा, उत्तर प्रदेश बनाया गया था। राम जन्मभूमि आंदोलन के दौरान भाजपा मुख्यालय में रहते हुए उन्होंने राजनीतिक गतिविधियों के संचालन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वह भाजपा उत्तर प्रदेश १९९४ से कार्यकारी समिति के सदस्य बने। १९९७ में, वह उत्तर प्रदेश सरकार मंत्री श्री कलराज मिश्रा जी के जनसंपर्क अधिकारी थे। १९९८ में वह उत्तर प्रदेश ओलंपिक एसोसिएशन के उपाध्यक्ष बने। उन्हें २००० में भाजपा के राज्य मीडिया प्रभारी बनाया गया था। उन्होंने निजामाबाद विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से भाजपा उत्तर प्रदेशविधानसभा चुनाव २००२ में भी चुनाव लड़ा था। २००५ में वह पार्टी प्रवक्ता बने। वह आर्चमगढ़ एसोसिएशन और आज़मगढ़ ओलंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष के संयुक्त सचिव भी बने। उन्हें २ अगस्त २०१० को भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश राज्य इकाई के राज्य प्रवक्ता की ज़िम्मेदारी दी गई थी। उन्हें ९ जुलाई २०१६ को भाजपा उत्तर प्रदेश के लिए राज्य महासचिव नियुक्त किया गया था।९ फरवरी २०१८ को उन्हें राज्य महासचिव के रूप में फिर से निर्वाचित किया गया था। १९ अप्रैल २०१८ को उन्हें सदस्य उत्तर प्रदेश विधान परिषद के रूप में निर्वाचित किया गया था।