विजयनगर साहित्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

विजयनगर साहित्य से आशय विजयनगर साम्राज्य में रचित कन्नड, तेलुगु संस्कृत और तमिल साहित्य से है। यह काल दक्षिण भारत के साहित्यिक इतिहास का स्वर्ण काल था। इस काल में राजाओं ने विभिन्न भाषाओं के साहित्यकारों को आश्रय दिया जिन्होने जैन, वीरशैव और वैष्णव सम्प्रदाय की परम्पराओं के ग्रन्थों की रचना की। इस काल में सैकड़ों ग्रन्थों की रचना हुई जो भारतीय संस्कृति, धर्म, जीवनचरित, प्रबन्ध, संगीत, व्याकरण, कविता, आयुर्वेद आदि से सम्बन्धित थे।

सन्दर्भ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]