विकिरण सुरक्षा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
परिरक्षण (शिल्डिंग) के लिये प्रयोग किये गये सीसा के ब्लॉक

आयनकारी विकिरण के हानिकारक प्रभावों से व्यक्तियों एवं पर्यावरण को सुरक्षित रखने वाले विज्ञान एवं व्यवहार का नाम विकिरण सुरक्षा (Radiation protection या radiological protection) है।[तथ्य वांछित]

उद्योग एवं चिकित्सा में आयनकारी विकिरण का बहुतायत से उपयोग होता है।[तथ्य वांछित] इस कारण यह स्वास्थ्य के लिये बहुत बड़ा खतरा पैदा कर सकता है यदि इससे बचने एवं इसकी मात्रा को सीमित रखने से समुचित प्रबन्ध न किये जाँय। आयनकारी विकिरण जीवित ऊतकों का सूक्ष्मस्तरीय नुकसान पहुँचाता है जिससे त्वचा जल सकती है। इसके अलावा इस विकिरण के उच्च मात्रा में सम्पर्क में आने से 'विकिरण बिमारी' (radiation sickness) हो सकती है। कम मात्रा में लेने पर भी कैंसर होने की सम्भावना बढ जाती है।[तथ्य वांछित]

विकिरण से सुरक्षा का मूलभूत तरीका है कि विकिरण के प्रभाव में कम से कम आयें (reduction of expected dose) तथा मानव द्वारा लिये गये विकिरण डोज का सतत मापन करते रहना।[तथ्य वांछित]

विकिरण से सुरक्षा का सिद्धान्त[संपादित करें]

विकिरण से सुरक्षा के तीन नियम हैं-

  • (१) दूरी : विकिरण के स्रोत से पर्याप्त दूरी बनाये रखें।[तथ्य वांछित]
  • (२) कवच या परिरक्षक (शिल्ड) : रेडियोसक्रिय स्रोत एवं लोगों के बीच शिल्ड रखी होनी चाहिये। ये शिल्ड प्रायः क्ंक्रीट की दीवार, सीसा या इस्पात की मोटी चादरें या ब्लॉक आदि के रूप में होते हैं।[तथ्य वांछित]
  • (३) समय : विकिरण क्षेत्र में जाना पड़े तो भी कम से कम समय उस क्षेत्र से निकलने का प्रयास करना चाहिये।[तथ्य वांछित]