विकिपीडिया वार्ता:कठपुतली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

यह पृष्ठ विकिपीडिया:कठपुतली पन्ने के सुधार पर चर्चा करने के लिए वार्ता पन्ना है। यदि आप अपने संदेश पर जल्दी सबका ध्यान चाहते हैं, तो यहाँ संदेश लिखने के बाद चौपाल पर भी सूचना छोड़ दें।

प्रस्तावित ड्राफ़्ट[संपादित करें]

हाल की घटनाओं व पहले भी कठपुतली खातों से कई समस्याएँ उत्पन्न हुई हैं। इसलिए अब समय आ गया है कि हम एक मजबूत कठपुतली निरोधक निति को लागू करें। इसलिए मैं इस नए ड्राफ़्ट का प्रस्ताव सभी सदस्यों के समक्ष रखता हूँ। अगर किसी सदस्य को किसी बिंदु पर ऐतराज़ है तो उस पर चर्चा की जा सकती है। अगर किसी को कोई संशोधन कराना है तो कृपया उसका विकल्प भी साथ में दे। नए बिंदुओं का भी स्वागत है, धन्यवाद।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 05:58, 24 जुलाई 2012 (UTC)

समर्थन[संपादित करें]

  1. <>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 06:05, 24 जुलाई 2012 (UTC)
  2. Hindustanilanguage (वार्ता) 06:31, 24 जुलाई 2012 (UTC).
  3. समर्थन, इस नीति में मैनें कुछ और सुधार किये है।--Mayur (talk•Email) 08:49, 24 जुलाई 2012 (UTC)
  4. भवानी गौतम (वार्ता) 15:57, 25 जुलाई 2012 (UTC)
  5. Hunnjazal (वार्ता) 03:38, 26 जुलाई 2012 (UTC)
  6. सिद्धार्थ घई (वार्ता) 08:50, 26 जुलाई 2012 (UTC)

विरोध[संपादित करें]

चर्चा[संपादित करें]

अपने वर्तमान रूप में हिन्दी विकि की कठपुतली सम्बन्धी नीति अपर्याप्त है और इसकी भाषा संदिग्ध है। इससे मनमानी की पूरी सम्भावना है। मेरा विचार है कि इस पर कम से कम एक माह तक विचार-विमर्श और चर्चा हो। परिवर्तन-परिवर्धन हों। उसके बाद इसे स्वीकृति का प्रस्ताव लाया जाय।-- अनुनाद सिंहवार्ता 07:06, 24 जुलाई 2012 (UTC)

अनुनाद जी, इसलिए मैने कहा है कि अगर किसी कोई ऐतराज़ है तो अपनी बात को आगे रखे। क्या संदिग्ध लग रहा है आपको? और मनमानी किस प्रकार होगी? आपको अगर कुछ सुझाना है तो कृपया सुझाएँ, परन्तु बात को टाले न क्योंकि इस निति की आवश्यकता जल्दी है, जिससे भविष्य में सम्भावित कठपुतली खातों को रोका जा सके।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 07:58, 24 जुलाई 2012 (UTC)
मुझे भी यही लगता है कि यदि हमारे मित्रों के मन में कोई आशंका है, तो वह इसे खुलकर बयान करें।-- Hindustanilanguage (वार्ता) 05:20, 25 जुलाई 2012 (UTC).

मैं यह जानना चाहता हूँ:

  1. छद्म खाते को छोड़कर अन्य मामले में चेतावनी कौन देगा? कितने प्रबंधक इस चेतावनी देने कार्य में सामिल होंगे? यदि एक या दो प्रबन्धकद्वारा चेतावनी देकर निषेध करने की प्रक्रिया रखेंगे तो क्या यह निष्पक्ष होगा? चौपाल में चर्चा के दौरान मतभेद में भी सदस्यों को बहुत बार चेतावनियाँ देते पाए गए।
    यहाँ चर्चा केवल छद्म खातों तक ही सीमित है। अन्य मामलों के लिए विकिपीडिया:निषेध नियमावली है (जिसमें अभी बदलाव की आवश्यकता है, परन्तु धीरे-धीरे ही नियम-दिशानिर्देश बनेंगे)।
  2. किसी भी नये सदस्य को १ बार या २ बार अवश्य चेतावनी दें नये सदस्य अवश्य गलती करेंगे ऐसे में एक या दो बार चेतावनी देकर निषेध करना सही नहीं होगा। जो प्रवेश कर संपादन करते हैं ऐसे नये सदस्यों को चार-पाँच बार चेतावनी देना चाहिए।
    किस प्रकार की चेतावनी और किस भूल की? यहाँ केवल छद्म खातों से निपटने का रास्ता ढूंढ़ा जा रहा है और किसी भी सदस्य पर कारवाई तब ही होगी जब वह "वैकल्पिक खातों का अनुचित प्रयोग" अनुभाग में दिएँ गए बिन्दुओं का उल्लंघन करे। इसमें नए सदस्य द्वारा की गई गलतीयों का तो उल्लेख है ही नहीं। यह प्रस्ताव मुख्यतः पुराने सदस्यों के लिए ही है।
  3. अनामक सदस्यों के मामले तीन भूल तक माफ करना ही चाहिए। मैने भी विकि में जब कदम रखा, तब बहुत बार गलतियाँ की थी। यदि मुझे भी कोई निषेध कर देता तो मैं आज यहाँ नहीं होता और नेपाली विकिपीडिया मे पाँच हजार से बढकर बीस हजार से अधिक लेख न होते।
    गलती मैने भी की थीं, सभी करते हैं। परन्तु मुझे विश्वास है कि न तो आपने और न ही किसी अन्य विवेकी सदस्य ने गुप्त खाते बना के व्यक्तिगत हमले किए होंगे और न ही चर्चाओं में अपना मत बढ़ाने की कोशिश।
  4. हिंदी विकिपीडिया नये सदस्य वा अनामक नये सदस्य के द्वारा कोई समस्या मुझे तो नहीं दिखाई देती। जो भी समस्या है वह पुराने और ज्यादातर प्रबन्धकों की लड़ाईं और प्रबन्धक के आई पी पते से छद्म खाते का निर्माण यही सबकुछ है।
    इसलिए यह प्रस्ताव मुख्यतः पुराने सदस्यों को ऐसा करने से रोकने के लिए है।
  5. छद्म खाते के मामले में चेकयूजर से प्रमाण मिलने पर निषेध तो किया जा सकता है। स्कूल, कलेज और पुस्तकालय से छात्र-छात्राएँ, अध्यापक और विद्वान् एक ही कम्प्यूटर पर या आई पी से काम कर सकते हैं। एक ही स्थान एक ही शैक्षणिक परिवार के लोगों में विचार और पक्ष भी एक हो सकता है। इसमें कैसे छानबीन करेंगें?
    चॅकयूज़र केवल आईपी पता ही नहीं देखते। कई तकनीकी तथ्यों को परखा जाता है, मुझे सब ही का तो नहीं पता परन्तु इसमें खातों का इतिहास, टाइमस्टैम्प, लॉग इन का औसतन समय, संपादन दिलचस्पी, आदि शामिल हैं। विचार और पक्ष एक होने से कारवाई नहीं होगी जब तक वे विकिपीडिया को नुकसान न पहुँचाने लगें जैसा "वैकल्पिक खातों का अनुचित प्रयोग" में साफ़ लिखा है।
  6. भिन्न मत रखने वाले सदस्य के उपर प्रयोग करने का हथियार तो नहीं बनेगा?
    ऐसा नामुमकिन है क्योंकि कारवाई केवल चार बिन्दुओं तक ही सीमित है। अगर कोई दो सदस्य विभिन्न मत रखते हैं और एक सदस्य छद्म खाते बना के दूसरे सदस्य को परेशान करता है तो अवश्य कारवाई होगी। परन्तु अगर एक सदस्य अपनी जगह ठीक है, उसने कोई गुप्त खाता नहीं बनाया और उस से कोई बर्बता नहीं हुई तो दूसरा सदस्य इसे हथियार कैसे बना सकता है? चॅकयूज़र अपनी रिपोर्ट में यह सुनिश्चित ही कर देगा कि पहले सदस्य ने कोई छद्म खाता बनाया ही नहीं और अगर उसका कोई गुप्त खाता है भी परन्तु उस खाते का दुरपयोग हुआ ही नहीं तो कोई कारवाई तब भी हो नहीं सकती।
  7. शहर में हजारों कम्प्यूटर कॉफे हैं उन अलग-अलग जगहों से भी ( जिसके आई पी अलग होंगे) छ्द्म खाते बनाए जा सकते हैं, ऐसे में कैसे चेक करेंगे। भवानी गौतम (वार्ता) 10:56, 25 जुलाई 2012 (UTC)
    जैसा मैने बताया कि कई पहलूओं को देखा जाता है। अगर कोई सदस्य विभिन्न आईपी पतो का इस्तेमाल कर भी रहा है तो उसका लॉग इन का औसतन समय एक ही होगा व उसकी संपादन दिलचस्पी एक ही होगी। साथ ही अगर चॅकयूज़र रिपोर्ट से वह बच भी जाता है तब भी विकिपीडिया:निषेध नियमावली के अनुसार उसे बर्बता करने से रोका जा सकता है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 14:52, 25 जुलाई 2012 (UTC)

मयूर जी ने ड्राफ़्ट में जो परिवर्तन किये हैं वे उस भाग में कुछ अलग-अलग से लग रहे हैं, और उन्हें नीति में उपयुक्त जगह पर डालने की आवश्यकता है (चूँकि उनके ऊपर लिखा है अगर किसी सदस्य को किसी/किन्ही खाते/खातों पर कठपुतली होनी का शक है तो इन खातों से निपटने के उसके पास दो रास्ते हैं:) और उसके बाद चार पॉइंट दिये हैं (जिसमें से नए दो पॉइंट तरीके नहीं हैं)। अनुरोध है कि इन्हें उपयुक्त रूप से नीति में समावेशित किया जाए।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 09:07, 26 जुलाई 2012 (UTC)

नीति लागू[संपादित करें]

यह नीति लागू है। कुछ सदस्यों का मत है कि यह वास्तव में जुलाई २०१२ से ही लागू थी। इसपर विवाद है लेकिन २५ मार्च २०१३ से यह अवश्य लागू है। इसमें बिना चौपाल पर चर्चा के कोई फेर बदल न करें। इस नीति के अनुसार स्पष्ट रूप से घोषित किया जाता है कि कोई भी अगर छद्म खाते चलाता है तो उसके सभी खातों को बिना चेतावनी और बिना चर्चा के हमेशा के लिये प्रतिबन्धित कर दिया जाएगा। --Hunnjazal (वार्ता) 02:57, 26 मार्च 2013 (UTC)