विकिपीडिया:चौपाल/Narayam

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मैं प्रस्ताव रखता हूँ कि sa:User:Siddhartha Ghai/vector.js में लिखे बदलाव Narayam के ट्रांस्लिटरेशन में किये जाएँ और उसके पश्चात हिन्दी विकिपीडिया पर Narayam इनस्टॉल कर दिया जाए।

यह कार्य बग्ज़िला टिकटों द्वारा होगा। सदस्यों की सहूलियत के लिये ट्रांस्लिटरेशन में जो परिवर्तन इससे होंगे वे निम्न हैं:

नीचे पुराने नियम से तात्पर्य Narayam के वर्तमान नियम से है, नियम यहाँ transliteration rule है

नियम (rule) उदाहरण (example) नोट (note)
पुराना नियम (old rule) नया नियम (new rule) पुराने नियम का उदाहरण (example-old) नए नियम का उदाहरण (example-new)
-
['([क-ह]़?)् ', '', '$1 ']
- raam --> राम इस नियम के बिना कोई भी अक्षर तभी पूरा होता है जब उसके आगे a दबाया जाए। यह नियम a की जगह space का भी विकल्प देता है। अर्थात "ka" और "k " दोनों से ही क बनेगा। इसका मुख्य उद्देश्य है कि राम, काम इत्यादि शब्दों के अंत में a ना लिखना पड़े।
['(z|Z)', '', '.']
['z', '', 'ज़्'],

['Z', '', '.']
z --> .
Z --> .
z --> ज़
Z --> .
पुराने नियम के अनुसार z और Z दोनों से ही . (dot) आती है। नए नियमों में z से ज़ आता है (जिसे इनपुट करने के लिये पुराने नियमों में कोई एक की नहीं है), और Z से . (dot) आती है
['([क-ह]़?)्O', '', '$1ो']
['([क-ह]़?)्O', '', '$1ॉ']
kO --> को kO --> कॉ पुराने नियमों में o और O दोनों ही ो देते हैं और ॉ इनपुट करने की कोई प्रणाली नहीं है। यह गड़बड़ी कुछ समय पहले हमारी वर्तमान प्रणाली में से भी हटाई गई थी और इस बदलाव से Narayam हमारी वर्तमान प्रणाली के करीब आ जाएगा।
['O', '', 'ओ']
['O', '', 'ऑ']
O --> ओ O --> ऑ यह बदलाव भी ऊपर के बदलाव की तरह ही है।
['([क-ह]़?)्E', '', '$1े']
['([क-ह]़?)्E', '', '$1ॅ']
kE --> के kE --> कॅ यह बदलाव भी ऊपर के दो बदलावों की तरह e और E की इनपुट भिन्न करता है और ॅ इनपुट करने का एक तरीका बनाता है। इससे narayam की इनपुट वर्तमान प्रणाली के करीब आ जाती है।
['([क-ह]़?)(ुu|्U|ॊo)', '', '$1ू']
['([क-ह]़?)(ुu|्U|ॊo|ोo)', '', '$1ू']
koo --> कोओ koo --> कू यह बदलाव U के साथ-साथ oo से ू मात्रा लगाना संभव करता है। इससे ऊ लिखने में कोई परिवर्तन नहीं आता जो U से ही लिखा जाएगा।
['q', '', '\u0951']
['q', '', 'क़्']
q --> ॑ (UDATTA) q --> क़ यह बदलाव q से क़ इनपुट करने की सुविधा जोड़ता है और UDATTA हटाता है, जो वैसे भी आम हिन्दी में प्रयोग नहीं होता।
-
['([ग्|ज्]़?)्Y', '', 'ज्ञ्']
jY --> ज्ञ , gY --> ग्ञ jY --> ज्ञ, gY --> ज्ञ इससे jY के साथ-साथ gY से भी ज्ञ लिखना संभव हो जाएगा। ग्य लिखना gy से पहले की तरह ही संभव रहेगा।
-
['([क-ह]़)(्?)\\`', '', '$1$2']
k`` --> क़़ (क पर दो नुकते) k`` --> क़ (एक ही नुकता) यह बदलाव एक ही अक्षर पर एक से अधिक नुकते लगना अक्षम करता है। चाहे नुकते वाली की कितनी भी बार दबाई जाए।
['([क-ह])्\\`', '', '$1़्']
['([क-ह])(ा|ि|ी|ु|ू|े|ै|ॅ|ो|ौ|ॉ|ृ|्)\\`', '', '$1़$2']
ki` --> कि़ (नुकता मात्र पर है, क पर नहीं) ki` --> क़ि (नुकता क पर है, मात्रा पर नहीं) पुराना नियम हलंत के बाद नुकता लगने पर नुकते को हलंत से पहले कर देता था। नया नियम हलंत के साथ-साथ यही काम मात्राओं के साथ भी करता है। अगर नुकता मात्रा के बाद लगाया जाए तो यह उसे मात्रा से पहले वाले वर्ण पर लगा देता है। यह नियम पूरी तरह सही नहीं है, इसमें एक खामी है। पहले kri` --> क्रि़ (नुकता मात्रा पर), नए नियम के साथ kri` --> क्ऱि (नुकता क पर नहीं र पर लगता है)। यद्यपि इसमें यह कमी है कि यह आधे वर्ण पर नुकता लगाता है, परंतु यह मात्रा पर नुकते के लगने से तो बेहतर ही है।

इन बदलावों के बाद मेरे विचार में Narayam यहाँ लगाने के लिये उत्तम होगा।

वर्तमान प्रणाली के ऊपर Narayam के कुछ फ़ायदे:

  • HotCat, HotInterwiki, Twinkle जैसे गैजेटों के लिये सपोर्ट
  • हर जगह अलग-अलग चेकबॉक्स की जगह ऊपर एक ही चेकबॉक्स
  • extension होने के कारण बाकी विकिमीडिया परियोजनाओं के साथ समानता
  • कोई भी भाषा (केवल हिन्दी नहीं) इनपुट करने की सुविधा
  • स्थानान्तरण में आ रही वर्तमान परेशानी (स्थानान्तरण में नाम इनपुट करने की जगह पर इनपुट प्रणाली का काम ना करना) जैसी परेशानियाँ आने की संभावना मेरे विचार से घट जाएँगी
  • अपने लिये ट्रांस्लिटरेशन, इनस्क्रिप्ट इत्यादि कीबोर्डों के अलग नियम बनाने की सहूलियत (इसके द्वारा जो सदस्य पुरानी प्रणाली की key-mapping पसंद करते हैं उनके लिये पुरानी प्रणाली प्रयोग करते रहना संभव है, और सदस्य अपनी पसंद से अलग की-मैपिंग भी बना सकते हैं
  • स्क्रिप्ट का तभी लोड होना जब इनपुट प्रणाली सक्षम की जाए। जो सदस्य ऑफ़लाइन टूल प्रयोग करते हैं, वे जावास्क्रिप्ट का लोड होना अपनी वरीयताओं से अक्षम कर पाएँगे, जो वर्तमान प्रणाली के साथ संभव नहीं है।

मैं सभी सदस्यों से अनुरोध करता हूँ कि वे ऊपर दिये बदलावों को और हिन्दी विकिपीडिया पर Narayam सक्षम करने को अपना समर्थन दें ताकि इनपुट की सहूलियत बढ़ाई जा सके।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 13:59, 21 मार्च 2012 (UTC)

समर्थन[संपादित करें]

  •  Yes check.svg  - पूर्ण समर्थन। बस इसे अतिशीघ्र लागू किया जाए ताकि जगह-जगह देवनागरी लिखने की सुविधा ना होने की परेशानी से छुटकारा मिले। इसके अतिरिक्त यदि कुछ बदलावों की आवश्यकता महसूस होगी तो उस बारे में मैं समय-समय पर बताता रहूँगा। रोहित रावत (वार्ता) 05:30, 22 मार्च 2012 (UTC)
  •  Yes check.svg  - समर्थन. यह टंकण करने में बेहद सरल व सहायक सिद्ध होगा. आशूबातकरें 06:41, 22 मार्च 2012 (UTC)
  • समर्थन — हालांकि मैं बहारी टूल्स का ही प्रयोग करता हूँ, और मुझे नहीं लगता यह मेरे किसी काम आएगा।<>< Bill william comptonTalk 07:37, 22 मार्च 2012 (UTC)
  • समर्थन -- -- अनुनाद सिंहवार्ता 14:47, 22 मार्च 2012 (UTC)
  •  Yes check.svg  - पूर्ण समर्थन। सिद्धार्थ इसे हिन्दी की समस्त परियोजनाओं के लिये लागू करवाये जैसा कि संस्कृत विकि परियोजनाओं में किया गया--Mayur (talk•Email) 04:37, 24 मार्च 2012 (UTC)
  •  Yes check.svg  - पूर्ण समर्थन। ऊपर बताये गये अन्तिम बिन्दु से मुझे बहुत सुविधा होगी। मैं विण्डोज़ का डिफॉल्ट इन्स्क्रिप्ट कीबोर्ड प्रयोग करता हूँ तथा विकिपीडिया पर हर बार ट्राँसलिट्रेशन वाले टूल को अक्षम करना बहुत परेशान करता है। मैंने पहले कई बार कहा था कि वरीयतायें में इसे डिसेबल करने का विकलप हो।-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  22:39, 24 मार्च 2012 (UTC)
  •  Yes check.svg  हिन्दी विकिपीडिया की सभी परियोजनायें इस नई व्यवस्था से लाभान्वित होगी एतदर्थ मैं इस प्रस्ताव को अपना पूर्ण समर्थन व्यक्त करता हूँ :डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (talk•Email)

Krantmlverma (वार्ता) 04:22, 26 मार्च 2012 (UTC)


विचार/टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  • ये कुछ वे कमियाँ थीं जिनके कारण मुझे बाराह इण्डिक कहीं बेहतर लगा था, और मैं अभी तक वही प्रयोग करता आ रहा हूं। अतः मुझे इसकी कमी सदा ही खटकती रही थी। किन्तु अब ये कमियाँ पूरी हो जाने से देवनागरी टंकण कहीं बेहतर हो सकेगा। इसके साथ ही एक सुझाव भी है:
बाराह इण्डिक की ही भांति यदि इसमें अंग्रेज़ी /रोमन अंक का विकल्प देवनागरी लिपि के संग उपलब्ध हो तो सांचों में काम करना भी सरल हो सकेगा।--ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागरवार्ता 05:13, 22 मार्च 2012 (UTC)
mw:Extension:Narayam#User level customization पर दी instructions के अनुसार इसमें आप कोई भी इनपुट नियम जोड़ सकते हैं, बाराह इंडिक में जिस तरह अंक इनपुट करते थे; वे भी। यदि अन्य सदस्यों को भी वे नियम पसंद आएँ, तो उन्हें गैजेट बनाया जा सकता है; या फिर बग्ज़िला द्वारा Narayam में जुड़वाया भी जा सकता है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 13:37, 22 मार्च 2012 (UTC)

विरोध[संपादित करें]

चर्चा[संपादित करें]

इन बदलावों के लिये पैच सबमिट कर दिया है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 23:34, 22 मार्च 2012 (UTC)

नया पैच [1] इसमें उपरोक्त के अतिरिक्त कुछ अन्य बदलाव भी हैं।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 08:28, 23 मार्च 2012 (UTC)

नारायम को सक्षम करने के लिये बग 35436 फ़ाइल कर दिया है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 10:48, 23 मार्च 2012 (UTC)

नारायम सक्षम होने के बाद बदलाव
  • नारायम सक्षम होने के बाद वर्तमान प्रणालियों को असक्षम करना होगा:
हां जैसे ही यह सक्षम होती है हम पुरानी प्रणाली हटा सकते है।--Mayur (talk•Email) 04:38, 24 मार्च 2012 (UTC)

इसके अतिरिक्त:

शायद इसकी जानकारी में विकिपीडिया:Devanagari Help के उप-पृष्ठों से जानकारी जोड़नी चाहिये।

डिफ़ॉल्ट सक्षम?

अभी लगता है कि नारायम इस तरह बना है कि लॉग इन न किये हुए सदस्यों (जिसमें पाठक भी शामिल हैं) को यह बंद मिलेगा। यद्यपि इसे सक्षम करना कोई बड़ा काम नहीं है (केवल एक Ctrl-M ही दबाना है), परंतु इसके बिना पाठकों को खोजने में परेशानी आ सकती है। क्या हमें इसे डिफ़ॉल्ट सक्षम कराना चाहिये?--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 20:44, 24 मार्च 2012 (UTC)

और अगर कराना चाहिये तो इनपुट प्रणाली इनस्क्रिप्ट या फिर ट्रांसलिटरेशन रखनी चाहिये?

मेरे विचार में इसे डिफ़ॉल्ट सक्षम करा कर ट्रांस्लिटरेशन प्रणाली का प्रयोग किया जाना चाहिये।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 20:47, 24 मार्च 2012 (UTC)


सूचना: सबसे पहले नियम में परेशानी आने के कारण उसे फ़िलहाल छोड़ना पड़ा है। परेशानी यह थी कि उस नियम को लागू करने पर हलंत लगाना असंभव हो गया था (ऐसा होना नहीं चाहिये था)। अतः बदलाव उस नियम के बिना ही किये जा रहे हैं। उस नियम को ठीक से बनाने की फिर कोशिश करी जा रही है, पर उसके कारण सक्षम करने को नहीं रोका जाएगा।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 02:54, 1 अप्रैल 2012 (UTC)