वाष्पोत्सर्जन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
टमाटर की पत्तियों में उपस्थित स्टोमेटा का इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी की सहायता से खींचा गया चित्र

पौधों द्वारा अनावश्यक जल को वाष्प के रूप में शरीर से बाहर निकालने की क्रिया को वाष्पोत्सर्जन कहा जाता है। पैड़-पौधे मिट्टी से जिस जल का अवशोषण करते हैं, उसके केवल थोड़े से अंश का ही पादप शरीर में उपयोग होता है। शेष अधिकांश जल पौधों द्वारा वाष्प के रूप में शरीर से बाहर निकाल जाता है। पौधों में होने वाली यह क्रिया वाष्पोत्सर्जन कहलाती है। वाष्पोत्सर्जन की दर को एक यन्त्र द्वारा मापा जा सकता है। इस यन्त्र को पोटोमीटर कहते हैं। [1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. त्रिपाठी, नरेन्द्र नाथ (मार्च २००४). सरल जीवन विज्ञान, भाग-२. कोलकाता: शेखर प्रकाशन. पृ॰ ८६-८७. |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)

इसे पौधों में आवश्यक जल की हानी भी कहा जाता है